नेपाल में लगातार हो रही बारिश से बिहार में बाढ़ जैसे हालात, कई जिलों में तबाही का मंजर

नेपाल में लगातार हो रही बारिश के बाद बिहार के एक गांव में घुसा बाढ़ का पानी

नेपाल में लगातार हो रही बारिश के कारण सीएम नीतीश कुमार ने हालात की समीक्षा की. इस दौरान सीएम ने सभी जिलों में पूर्व से प्रतिनियुक्त NDRF एवं SDRF की टीमों को भी पूरी तरह अलर्ट मोड में रखने का निर्देश दिया है.

  • Share this:
बगहा/पटना. नेपाल और गंडक नदी के जल ग्रहण क्षेत्र में पिछले 24 घंटे से हो रही भारी बारिश ने बिहार की चिंता बढ़ा दी है. नेपाल के तराई क्षेत्रों में हुई बारिश के बाद गंडक नदी के जलस्तर में भारी वृद्धि हुई है. वाल्मीकिनगर गंडक बराज से 3 लाख 50 हज़ार क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज गंडक नदी में हो रहा है. जलस्तर में वृद्धि को लेकर वाल्मीकिनगर गंडक बराज के सभी 36 फाटक खोल दिए गए हैं. वहीं, वाल्मीकिनगर गंडक बराज के साथ ही तटबंधों और बांधों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन हाई अलर्ट पर है.

गंडक नदी में नावों के परिचालन पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी गई है. जलस्तर में वृद्धि के साथ दर्जनों गांवों में नदी का पानी घुस गया है. स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उच्चस्तरीय बैठक की. भारी बारिश होने के कारण पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण और गोपालगंज जिले के जिलाधिकारियों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विशेष सतर्कता बरतने का निर्देश दिया है. मुख्यमंत्री ने आपदा विभाग जल संसाधन विभाग और संबंधित सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि तटबंधों के निकट रहने वाले लोगों के बीच माइकिंग के जरिये इसका विशेष रूप से प्रचार-प्रसार कराया जाए, ताकि निष्क्रमण की कार्रवाई त्वरित गति से हो सके. गंडक नदी के तटबंधों के इलाके में रहने वाले लोगों को जल्द से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाए.

बैठक में मुख्यमंत्री ने भारी वर्षापात एवं संभावित बाढ़ की स्थिति को देखते हुये आपदा प्रबंधन विभाग, जल संसाधन विभाग एवं सभी संबंधित जिलाधिकारियों को पूरी तरह अलर्ट में रहने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि मौसम पूर्वानुमान एजेंसियों के माध्यम से प्राप्त सूचना के आधार पर भारी बारिश की संभावना को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहे.

नेपाल में भारी वर्षापात के कारण गंडक नदी के जलश्राव (डिस्चार्ज) और नदी के जलस्तर में काफी वृद्धि होने की संभावना है. इसे लेकर मुख्यमंत्री ने जल संसाधन विभाग को निर्देश दिया है कि जल संसाधन विभाग अपने सभी अभियंताओं को आक्रमण्य स्थलों पर पूरी तरह अलर्ट रखें, ताकि तटबंधों की सुरक्षा की निगरानी की जा सके. साथ ही सभी जिलों में पूर्व से प्रतिनियुक्त NDRF एवं SDRF की टीमों को भी पूरी तरह अलर्ट मोड में रखा जाए, ताकि किसी भी प्रतिकूल स्थिति में त्वरित कार्रवाई की जा सके.

रिपोर्ट- मुन्ना राज/शैलेंद्र साहिल

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.