चारा घोटाले के पांच मामले, चार में सुनाई गई सजा एक पर फैसला बाकी

चारा घोटाले का पांचवा मामला डोरंडा कोषागार से जुड़ा है. जो चारा घोटाले का सबसे बड़ा मामला है. इसमें करीब 139.35 करोड़ की अवैध निकासी का आरोप है.

News18 Bihar
Updated: July 12, 2019, 6:28 PM IST
चारा घोटाले के पांच मामले, चार में सुनाई गई सजा एक पर फैसला बाकी
लालू प्रसाद यादव को देवघर कोषागार निकासी मामले में जमानत मिल गई है, लेकिन बाकी तीन में सजा अभी चल रही है.
News18 Bihar
Updated: July 12, 2019, 6:28 PM IST
चारा घोटाला के एक मामले में आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को जमानत मिल गई है, बावजूद इसके अभी वे जेल में ही रहेंगे. दरअसल लालू यादव को अभी महज देवघर कोषागार से अवैध निकासी के मामले में जमानत मिली है जबकि बाकी तीन- चाईबासा के दो मामले, दुमका के मामलों में उनकी सजा जारी है. जबकि डोरंडा कोषागार से जुड़े मामले में अभी ट्रायल जारी है.

चार मामलों में हो चुकी है लालू को सजा



दुमका कोषागार
लालू यादव पर आरोप था कि उन्होंने 1995 और 96 के बीच बिहार के मुख्यमंत्री रहते हुए कोषागार से 3.13 करोड़ की अवैध निकासी की. इस मामले में लालू समेत पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा और 29 अन्य लोग आरोपी थे. मार्च 2018 में दुमका कोषागार से अवैध निकासी मामले में विशेष सीबीआई अदालत ने लालू प्रसाद को 7 साल की सजा सुनाई. साथ ही कोर्ट ने लालू पर 30 लाख रुपये जुर्माना भी लगाया है.

चाईबासा कोषागार (पहला मामला)
इस मामले में आरोप था कि लालू यादव की मिलीभगत से 37.7 करोड़ की अवैध निकासी हुई. इस मामले में लालू को 5 साल की सजा सुनाई गई है. इस मामले में में 25 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

चाईबासा कोषागार (दूसरा मामला)
Loading...

लालू यादव पर आरोप था कि उन्होंने चाईबासा कोषागार से ही 30 करोड़ रुपये की और अवैध निकासी में उनका हाथ था. इस मामले में 5 साल की सजा सुनाई जा चुकी है. इस मामले में 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है.

देवघर कोषागार
यह मामला 89.5 लाख की अवैध निकासी से जुड़ा है. इसमें लालू यादव को शुक्रवार ( 12 जुलाई, 2019) को जमानत मिल गई है. हालांकि इस मामले में 3.5 साल की सजा सुनाई गई है. इस मामले में 5 लाख रुपये जुर्माना लगाया गया है.

पहले चार मामलों में लालू यादव को 20.5 साल की सजा सुनाई जा चुकी है. गौरतलब है कि चारा घोटाले मामले को लेकर लालू प्रसाद यादव के खिलाफ 6 प्राथमिकी दर्ज की गई थी, जिनमें से 5 झारखंड में और एक बिहार में थी.


पांचवें मामले में फैसला बाकी
चारा घोटाले का पांचवा मामला डोरंडा कोषागार से जुड़ा है. जो चारा घोटाले का सबसे बड़ा मामला है. इसमें करीब 139.35 करोड़ की अवैध निकासी का आरोप है. फिलहाल इस मामले में भी सुनवाई लगातार जारी है.

जाहिर है देवघर मामले में जमानत मिलने के बावजूद उनकी मुसीबतें आने वाले दिनों में और बढ़ सकती हैं. बता दें कि चारा घोटाला का केस साल 1996 में दर्ज हुआ, जिनमें 180 लोगों को आरोपी बनाकर उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई थी. हालांकि, सिर्फ 116 अभियुक्त ही वर्तमान में ट्रायल का सामना कर रहे हैं जबकि बाकि 62 की ट्रायल के दौरान ही मौत हो गई है.

ये भी पढ़ें-

राबड़ी का तंज- बिहार में नीतीशे कुमार है, अपराधियों की बहार है

भारी बारिश से भरभराकर ढह गई छत, मां के साथ 2 बच्चों की मौत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...