होम /न्यूज /बिहार /

तीन दिनों के संघर्ष के बाद मौत से जंग हार गई भोजपुरी कलाकार तीस्ता शांडिल्य

तीन दिनों के संघर्ष के बाद मौत से जंग हार गई भोजपुरी कलाकार तीस्ता शांडिल्य

तीस्ता शांडिल्य की फाइल फोटो

तीस्ता शांडिल्य की फाइल फोटो

17 साल की तीस्ता शांडिल्य लोक गायन में उभरता नाम थी और कई नामी हस्तियों ने उनकी सराहना की थी.

    बिहार की उभरती भोजपुरी लोकगायिका 17 वर्षीया तीस्ता शांडिल्य का मंगलवार को निधन हो गया. वो एक्यूट सेप्टेसेमिया नामक रोग से लड़ते-लड़ते आखिरकार हार गई. तीस्ता के निधन से कला और साहित्य जगत में शोक की लहर है.

    तीस्ता ने पटना एम्स में मंगलवार की शाम करीब साढ़े सात बजे दम तोड़ा. अपनी सुरीली आवाज से तीस्ता ने बहुत कम समय में बाबू वीर कुंवर सिंह की गाथा गाकर सुर्खिया बटोरी थी. उसे भोजपुरी लोकगाथा और लोकनाट्य का सबसे चमकदार उभरता सितारा माना जाता था. अपनी गायिकी से पहचान बनाने वाली तीस्ता के निधन की खबर से लोग शोकाकुल हो गये. जानकारी के मुताबिक तीस्ता पिछले तीन दिनों से पटना एम्स के वेंटिलेटर पर थी.

    एम्स के चिकित्सकों ने पूरी कोशिश की ताकि तीस्ता को बचाया जा सके लेकिन ऐसा नहीं हो सका. तीस्ता के पिता उदय नारायण सिंह समेत अन्य परिजनों के सब्र का बांध बेटी की मौत के साथ ही टूट गया और सभी बिलखने लगे. उसकी मदद के लिये भोजपुरी कला जगत की कई हस्तियां भी सामने आयी थीं. लोक गायिका शारदा सिन्हा ने भी तीस्ता के जल्द ठीक होने की कामना की थी.

    तीस्ता के निधन पर भोजपुरी और कला-रंगमंच से जुड़े लोगों ने भी शोक प्रकट किया है. लोगों ने उसके निधन को कला और रंगमंच के लिये बड़ी क्षति बताया है.

    Tags: Bihar News, PATNA NEWS

    अगली ख़बर