Home /News /bihar /

जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से पटना के पीएमसीएच अस्पताल में बच्चा समेत चार मरीजों की मौत

जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से पटना के पीएमसीएच अस्पताल में बच्चा समेत चार मरीजों की मौत

रोते बिलखते मृतक के परिजन

रोते बिलखते मृतक के परिजन

खगौल के रहने वाले एक मरीज के परिजनों ने शिशु वार्ड में एक डॉक्‍टर की पिटाई कर दी थी. इसमें डॉक्‍टर दीनानाथ घायल हो गए. इस घटना के विरोध में जूनियर डॉक्‍टरों ने हड़ताल कर दी. फिलहाल मौके पर पुलिस पहुंची हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
    बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पटना स्थित पीएमसीएच के जूनियर डॉक्‍टर हड़ताल पर चले गए हैं. जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से हाहाकार मच गया है और पीएमसीएच में मरीजों की मौत हो रही है. अब तक जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक हड़ताल की वजह से एक बच्चे समेत 4 मरीजों की मौत हो गयी है.

    हड़ताल के कारण 80 से ज्यादा मरीज अस्पताल से पलायन कर गए हैं. इमरजेंसी में स्थिति इतनी खराब है कि मरीजों को इलाज तो दूर स्ट्रेचर और ट्रॉली तक नहीं मिल रहा है. इलाज नहीं होता देख गंभीर मरीज कंधे पर,गोद मे और चादर में लपेटकर मरीज को दूसरे अस्पताल ले जा रहे हैं. जूनियर डॉक्टरों को मनाने का प्रयास जारी है लेकिन सभी अपनी मांग पर डटे हैं. आरोपी परिजनों की गिरफ्तारी और सुरक्षा की मांग की लेकर जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर हैं ऐसे में जिंदगी देनेवाले अस्पताल मौत बांट रहा ह.

    सोमवार को शिशु वार्ड में मरीज के परिजनों द्वारा की गई डॉक्‍टर की पिटाई के विरोध में जूनियर डॉक्‍टरों ने काम करना बंद कर दिया. वार्ड में डॉक्‍टर मौजूद नहीं हैं. इससे अस्‍पताल में स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हो रही हैं. डॉक्टरों की हड़ताल के कुछ ही देर बाद एक बच्चे ने इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया था. बताया जा रहा है कि खगौल के रहने वाले एक मरीज के परिजनों ने शिशु वार्ड में एक डॉक्‍टर की पिटाई कर दी थी इसमें डॉक्‍टर दीनानाथ घायल हो गए. इस घटना के विरोध में जूनियर डॉक्‍टरों ने हड़ताल कर दी.

    Tags: Bihar News, Jdu, Nitish kumar, Orthopaedic doctor

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर