वशिष्ठ बाबू के निधन के बाद जागी बिहार सरकार, राजकीय सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार
Patna News in Hindi

न्यूज़ 18 की ख़बर देखकर सीएम हाउस हरकत में आया और आनन-फानन में राजकीय सम्मान के साथ वशिष्ठ नारायण सिंह (Vashisth Narayan Singh) की अंत्येष्टि (Funeral) करने की घोषणा की गई. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस पूरे मामले में PMCH प्रशासन से भी जानकारी मांगी गई है.

  • Last Updated: November 14, 2019, 3:08 PM IST
  • Share this:
पटना. महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह (Mathematician Vashisth Narayan Singh) का अंतिम संस्कार (Funeral) राजकीय सम्मान (State Honour) के साथ किया जाएगा. गुरुवार को उनके निधन (Death) के बाद न्यूज़ 18 ने पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (PMCH) द्वारा वशिष्ठ नारायण सिंह की उपेक्षा की खबर दिखायी तो सीएम हाउस (CM House) से लेकर अस्पताल प्रबंधन तक की नींद टूटी. न्यूज़ 18 की ख़बर देखकर सीएम हाउस हरकत में आया और आनन-फानन में राजकीय सम्मान के साथ वशिष्ठ नारायण सिंह की अंत्येष्टि करने की घोषणा की गई.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस पूरे मामले में PMCH प्रशासन से भी जानकारी मांगी गई है. वशिष्ठ नारायण सिंह (Vashisth Narayan Singh) का शव फिलहाल पटना में है जहां उनके पार्थिव शरीर को श्रद्धांजलि देने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) भी जाएंगे. वशिष्ठ नारायण सिंह के पार्थिव शरीर को पटना के कुल्हड़िया कॉम्पलेक्स स्थित उनके भाई के आवास पर रखा गया है जहां अंतिम दर्शन के लिए लोग आ रहे हैं. वशिष्ठ नारायण सिंह का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव भोजपुर जिले के बसंतपुर में किया जाएगा.

निधन पर CM नीतीश समेत आम लोगों ने जताया शोक 



गुरुवार सुबह उनके निधन की खबर आने के बाद से शोक संवेदनाओं का तांता लगा हुआ है. सीएम नीतीश कुमार ने महान गणितज्ञ के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि वशिष्ठ बाबू का निधन बहुत दुखद है. वशिष्ठ बाबू ने अपने ज्ञान से पूरे बिहार का नाम रौशन किया है. मैं वशिष्ठ बाबू के जाने से मर्माहत हूं, मैं उनको श्रद्धांजलि देता हूं. वहीं बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी दिवंगत आत्मा को अपनी श्रद्धांजलि दी और लिखा कि बिहार के महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह जी के निधन पर शोक संवेदना प्रकट करता हूं. ऐसी महान विभूति को कोटिश: नमन और विनम्र श्रद्धांजलि.



बता दें कि 74 साल के वशिष्ठ नारायण सिंह बीते कई वर्षों से बीमार चल रहे थे. गुरुवार को तबीयत बिगड़ने के बाद उनके भाई इलाज के लिए उन्हें पीएमसीएच लेकर गए जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. इस दौरान पीएमसीएच की संवेदनहीनता सामने आई थी जिसने इस महान विभूति के परिजनों को डेथ सर्टिफिकेट मात्र देकर पल्ला झाड़ लिया था. उनके परिजनों को न तो शव वाहन मुहैया कराया गया और न ही कोई सरकारी रहनुमा इसकी सुध लेने आया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading