गांव में हो रही अगलगी की घटना को लेकर बिहार में हाई अलर्ट, सरकार ने जारी की एडवाइजरी 

बिहार के गांव में लोगों को अगलगी के प्रति जागरूक करता विभाग

बिहार के गांव में लोगों को अगलगी के प्रति जागरूक करता विभाग

बिहार में 15 मार्च से लेकर 15 जून तक अगलगी की घटनाएं हर वर्ष लगातार घटतीं है. इस बार भी प्रदेश के अलग-अलग जिलों से रोजाना अगलगी के नए मामले सामने आ रहे हैं.

  • Share this:

पटना. बढ़ती गर्मी और पछुआ हवा के चलने से बिहार में अगलगी की घटनाओं में तेज़ी आ गई है , बिहार के कई जिलों में हर दिन आग लगने की घटनाओं की ख़बर आने के बाद आपदा प्रबंधन विभाग हरकत में आ गया है और आग से बचाने के लिए बिहार के तमाम जिलों में एडवाइज़री जारी कर लोगों को कई माध्यमों से आग से बचाव के उपाय बताने पर ज़ोर दे रही है. बिहार में बढ़ते हुए अगलगी की घटना को देखते हुए आपदा विभाग और अग्निशमन विभाग के  द्वारा खास तैयारी की जा रही है.

इस वर्ष अगलगी की घटना पर काबू पाने के लिए कई नई पहल भी की गई है लेकिन इसके बाद भी घटनाएं नही रुक रही है. बिहार में 15 मार्च से लेकर 15 जून तक अगलगी की घटनाएं हर वर्ष लगातार घटतीं है. आपदा विभाग के द्वारा एडवाइजरी भी जारी कर दी गयी है और कई गाईडलाइन लोगों को दिए जा रहे हैं. अगलगी की घटना सबसे ज्यादा पछुआ हवा बहने के दौरान होती है और इस समय सरकार के लिए बड़ी चुनैती होती है.

आपदा प्राधिकरण के उपाध्यक्ष ब्यास जी कहते है कि इसी को देखते हुए इस बार आपदा विभाग ने सभी पंचायतों में नल का जल योजना के अंतर्गत हाईडेंट सिस्टम लगाने का निर्देश भी दिया, साथ ही 10 लाख लोग जिसमे से कई जनप्रतिनिधि है तो कुछ अधिकारी हैं उन्हें मोबाइल पर मैसेज भेज कर अलर्ट कराया जा रहा है जिससे कि अगलगी की घटना को रोकने के लिए वे लोगो को जागरूक करें और खुद भी सचेत रहें

अगलगी की घटना को रोकने में जागरूकता ही सबसे बड़ा हथियार है और इसी को देखते हुए अग्निशमन विभगा ने जागरूकता के लिए कई नई पहल की है. अग्निशमन विभाग की डीजी शोभा आहोतकर का कहना है कि पहली बार नुक्कड़ नाटक के जरिये और जीविका दीदियों को जागरूकता अभियान से जोड़ा जा रहा है. सरकार के द्वरा बिहार भर में वाटर सोर्स मैपिंग और नए जल स्रोतों को चिन्हित कर फायर फाइटिंग सिस्टम को दुरुस्त किया जा रहा है, साथ ही फायर फाइटिंग के लिए कई नए उपकरण भी खरीदे जा रहे हैं.
बिहार भर में अगलगी की घटना पर तुरंत कार्रवाई करने के लिए पटना में कंट्रोल रूम बनाया गया है जहां से पूरे बिहार भर की घटनाओं पर नजर रखी जा रही है, साथ ही यहां से हर जिले के अग्निशमन विभाग से संपर्क भी लगातार साधा जा रहा है. सबसे ज्यादा उतर बिहार से अगलगी की घटना की सूचना मिल रही है जिस पर तत्काल कार्रवाई की जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज