लाइव टीवी

बिहार उपचुनाव में तार-तार हुई महागठबंधन की एकता! क्या करेंगे मांझी, कुशवाहा और सहनी?

News18 Bihar
Updated: October 10, 2019, 12:06 PM IST
बिहार उपचुनाव में तार-तार हुई महागठबंधन की एकता! क्या करेंगे मांझी, कुशवाहा और सहनी?
बिहार में विधानसभा उपचुनाव के दौरान महागठबंधन में शामिल दलों के बीच सामंजस्य नजर नहीं आ रहा. (फाइल फोटो)

उपचुनाव को लेकर नामांकन के बाद महागठबंधन का जो स्वरूप सामने आया इसमें यह साफ है कि कांग्रेस और आरजेडी का गठबंधन तो बरकरार रहा, लेकिन अन्य दलों को दावेदारी के बावजूद कोई तरजीह नहीं मिली.

  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar) में पांच विधानसभा सीटों (Assembly Seat Bye Election) और लोकसभा की एक सीट (Lok Sabha Seat Bye Election) पर उपचुनाव हो रहे हैं. विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) गुरुवार से चुनाव प्रचार शुरू कर चुके हैं. महागठबंधन (Grand Alliance) के दलों में आरजेडी (RJD) चार विधानसभा सीट और कांग्रेस (Congress) ने एक लोकसभा और एक असेंबली सीट के लिए अपने उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं. जाहिर है इसमें अलायंस में शामिल अन्य दलों को कोई जगह नहीं मिली. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या बिहार में महागठबंधन अब महज कागजों पर ही सीमित रह गई है?

कागज पर अब भी बरकरार है महागठबंधन
दरअसल उपचुनाव को लेकर नामांकन के बाद महागठबंधन का जो स्वरूप सामने आया इसमें यह साफ है कि कांग्रेस और आरजेडी का गठबंधन तो बरकरार रहा, लेकिन अन्य दलों को दावेदारी के बावजूद कोई तरजीह नहीं मिली. जाहिर है यह संकेत है कि महागठबंधन बिहार में कागज पर तो नहीं टूटा है, लेकिन व्यावहारिक रूप से खत्म हो गया है.

Bihar Mahagathbandhan Politics
उपचुनाव में कांग्रेस-आरजेडी गठजोड़ ने महागठबंधन में शामिल अन्य दलों को तरजीह नहीं दी है (फाइल फोटो)


आरजेडी ने चार सीटों पर उतारे उम्मीदवार
दरअसल इसकी शुरुआत तब हुई जब विधानसभा की पांच में से चार सीटें- दरौंदा, सिमरी बख्तियारपुर, बेलहर और नाथनगर से राष्ट्रीय जनता दल ने अपने उम्मीदवारों को उतारने की न सिर्फ घोषणा की, बल्कि लड़ने के लिए पार्टी का सिंबल भी दे दिया.

मांझी को नहीं मिली तरजीह
Loading...

इसमें सबसे खास बात ये कि कांग्रेस पार्टी शुरू में दो सीटों किशनगंज और सिमरी बख्तियारपुर की मांग कर रही थी. वहीं, हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने नाथनगर से अपने उम्मीदवार के नाम की घोषणा कर दी थी. मांझी ने तो यह ऐलान आरजेडी की घोषणा से भी पहले कर दिया था, लेकिन आरजेडी ने उनकी बात को दरकिनार कर नाथनगर से भी अपना उम्मीदवार उतार दिया.

सन ऑफ मल्लाह भी हुए किनारे
वहीं, लोकसभा चुनाव में तीन सीटों पर लड़ चुकी सन ऑफ मल्लाह कहे जाने वाले मुकेश सहनी की पार्टी विकासशील इंसाफ पार्टी (VIP) ने भी सिमरी बख्तियारपुर सीट पर लड़ने की घोषणा की थी, लेकिन वहां से भी आरजेडी ने अपना उम्मीदवार उतार दिया.

Mahagathbandhan
बीते अगस्त महीने में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर बैठक करते हुए महागठबंधन के नेता (फाइल फोटो)


कांग्रेस ने भी आरजेडी के आगे किया सरेंडर
आरजेडी की ओर से चार सीटों पर लड़ने की घोषणा के बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) काफी नाराज दिख रही थी और पांचों विधानसभा और एक लोकसभा पर चुनाव लड़ने को तैयार थी. लेकिन, केंद्रीय नेतृत्व के दखल के बाद वो एक विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर लड़ने को राजी हो गई.

अगर व्यवहारिक रूप में देखा जाए तो उपचुनाव की लड़ाई में आरजेडी और कांग्रेस तो साथ हैं, लेकिन हम, वीआईपी और आरएलएसपी कहीं सीन में भी नजर नहीं आ रहे.

तेजस्वी यादव ने दे दिया मैसेज
जाहिर है आरजेडी और कांग्रेस के साथ आने और बाकी दलों को अधिक तरजीह नहीं देने फॉर्मूले पर तेजस्वी यादव चल पड़े हैं. इसी बहाने महागठबंधन में शामिल इन दलों को उन्होंने एक मैसेज भी देने की कोशिश की है कि महागठबंधन का स्वरूप वो जैसा चाहेंगे, वैसा ही होगा.

बता दें कि बिहार में पांच विधानसभा सीटों और लोकसभा के एकमात्र सीट के लिए उपचुनाव 21 अक्टूबर को होना है. इसी दिन महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा का चुनाव भी है. वोटों की गिनती मतदान के तीन दिन बाद यानी 24 अक्टूबर को होगा. राज्य की जिन पांच विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव होना है उनमें से चार पर बीजेपी का कब्जा था.

ये भी पढ़ें- 

घर में सो रही नाबालिग की गैंगरेप के बाद ईंट से कुचलकर हत्या

'बिहार के आइंस्‍टीन' को अस्पताल से मिली छुट्टी, सिजोफ्रेनिया से हैं पीड़ित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2019, 11:25 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...