अपना शहर चुनें

States

रूपेश सिंह मर्डर: गुजरात से क्रिमिनल को पटना लाया गया, बड़े बिल्डर से भी हिरासत में पूछताछ!

रूपेश सिंह हत्याकांड में 11 दिन बाद भी एसआईटी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है.
रूपेश सिंह हत्याकांड में 11 दिन बाद भी एसआईटी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है.

Patna News: सूरत से गिरफ्तार ठेकेदार से संबंधित मामले में पुलिस का कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इसने अपराध की दुनिया को छोड़ दिया है और ठेकेदारी करने लगा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 23, 2021, 9:23 AM IST
  • Share this:
पटना. बिहार पुलिस द्वारा लगातार किए जा रहे दावे के बाद भी इंडिगो एयरलाइंस स्टेशन हेड रूपेश कुमार सिंह मर्डर केस (Rupesh Singh murder case) में अब तक कुछ खास नतीजा सामने नहीं आ पाया है. इस बीच बिहार पुलिस की टीम गुजरात के सूरत (Surat) से एक ठेकेदार को पुलिस पकड़ कर पटना ले आई है. बताया जा रहा है कि पकड़ा गया शख्स पहले से आपराधिक प्रवृत्ति का रहा है और अब वह ठेकेदारी करता है. वहीं, इसी मामले में पटना के एक बिल्डर को भी हिरासत में लेकर पूछताछ किए जाने की बात सामने आई है. बता दें कि हाल में ही डीजीपी एसके सिंघल (DGP SK Singhal) ने रूपेश हत्याकांड को ठेके के विवाद से जोड़कर जांच करने की बात कही थी. इसी आधार पर पुलिस की जांच भी आगे बढ़ती दिख रही है.

हालांकि सूरत से गिरफ्तार ठेकेदार से संबंधित मामले में पुलिस का कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है, लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस की पकड़ में आए क्रिमिनल ने अपराध की दुनिया को छोड़ दिया है और ठेकेदारी करने लगा है. उसने पटना के साथ ही सूरत में भी कई ठेकेदारी ले रखी है. केस में पुलिस लगातार टेंडर को लेकर जांच कर रही है. उसमें कुछ ऐसी बातें सामने आई हैं जिसमें उस क्रिमिनल से पूछताछ जरूरी हो गई थी.

बता दें कि रुपेश सिंह की हत्या बीते 12 जनवरी को पटना के पुनाइचक में उनके घर के पास ही कर दी गई थी. उनके सीने में 6 गोलियां दागी गई थीं, जबकि 18-19 राउंड फायरिंग की बात सामने आई थी. यानी साफ था कि हत्यारे किसी भी हाल में रूपेश सिंह को मार डालना चाहते थे. अब जब घटना के 11 दिन बीत चुके हैं, बावजूद इसके पुलिस के हाथ कोई खास सबूत नहीं लगे हैं.



हालांकि अब तक की जांच में जो बातें स्पष्ट हुई हैं, इससे यह भी साफ है कि हत्या पेशेवर कातिलों ने की है. इसके साथ ही जिस हथियार से मारा गया है, उसके मुंगेर निर्मित होने की आशंका जताई गई है. अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या पेशेवर कातिलों को दूसरे राज्य से बुलाया गया था या फिर वे स्थानीय ही थी. आमतौर पर ऐसी घटनाओं को अंजाम देकर हत्यारे दूर निकल लेते हैं. मामला टेंडर से जुड़ा है तो जाहिर है इसमें प्रोफेशनल किलर के एंगल के साथ मामला बड़ी डील का भी हो सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज