बिहार चुनाव: पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के साथ हुई चोट, BJP की झोली में गई मनपसंद सीट

पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कुछ दिन पहले ही JDU की सदस्यता ग्रहण की थी.
पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कुछ दिन पहले ही JDU की सदस्यता ग्रहण की थी.

बुधवार को जेडीयू (JDU) ने 115 उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी. इस सूची में राज्य के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey) का नाम नहीं है. पांडेय का नाम कट जाने के बाद राज्य के सियासी महकमे में उनको लेकर चर्चाओं का दौर भी शुरू हो गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 10:44 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (Ex DGP Gupteshwar Pandey) की ग्रह-दशा विधानसभा चुनाव में साथ नहीं दे रही है. कुछ दिन पहले ही वीआरएस (VRS) लेकर जेडीयू (JDU) का दामन थामने वाले गुप्तेश्वर पांडेय को जेडीयू ने टिकट नहीं दिया. जिस ताम-झाम के साथ कुछ दिन पहले पांडेय जेडीयू में शामिल हुए थे, उसी ताम-झाम ने इस बार भी उन्हें टिकट से वंचित कर दिया? अब साफ लगने लगा है कि गुप्तेश्वर पांडेय बिहार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे. बुधवार को जेडीयू उम्मीदवारों की सूची सामने आने के बाद तो और साफ हो गया है कि जेडीयू ने गुप्तेश्वर पांडेय का मनपसंद जगह से टिकट काट दिया है. बीजेपी ने भी शाम होते-होते बक्सर सीट पर अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया. अब गुप्तेश्वर पांडेय को लेकर बिहार की सियासी गलियारे में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है.

जेडीयू की लिस्ट से गुप्तेश्वर पांडेय का नाम गायब
दरअसल गुप्तेश्वर पांडेय बक्सर जिले के ब्रह्मपुर या बक्सर सदर से जेडीयू से विधानसभा का टिकट चाहते थे, लेकिन बक्सर सदर बीजेपी के खाते में और ब्रह्मपुर सीट मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी के खाते में चली गई है. ऐसे में कयास लगाए जा रहे थे कि गुप्तेश्वर पांडेय बीजेपी ज्वाइन कर टिकट लेना चाहते हैं, लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बीजेपी के कुछ बड़े नेता गुप्तेश्वर पांडेय की एंट्री पार्टी में नहीं चाहते. इसलिए शाम होते-होते बक्सर सीट बीजेपी ने अपना प्रत्याशी उतार दिया.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की फाइल तस्वीर

पांडेय बक्सर से लड़ना चाहते थे चुनाव


बता दें कि बुधवार को ही जेडीयू ने अपने 115 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है. जेडीयू के हिस्से में 122 सीटें आई हैं. बुधवार को कयास लगाए जा रहे थे कि पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को भी कहीं से टिकट मिलेगा, लेकिन लिस्ट आने के बाद पांडेय का पत्ता साफ हो गया. बुधवार को जेडीयू के द्वारा जारी सूची में पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय का नाम नहीं था.



सुशांत सिंह राजपूत केस में खूब चर्चा में आए थे
हाल के दिनों में गुप्तेश्वर पांडेय फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की हत्या या आत्महत्या केस के दौरान काफी चर्चाओं में रहे थे. ऐसे में सवाल यह उठता है कि अपने रिटायरमेंट से चार-पांच महीने पहले पांडेय ने जिस विधानसभा चुनाव के लिए वीआरएस लिया था, उस मिशन में वह सफल नहीं हुए. कुछ साल पहले भी पांडेय बक्सर लोकसभा सीट से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन उस बार भी लालमुनी चौबे की वजह से बीजेपी ने उनका टिकट काट दिया. बाद में वह वीआरएस वापस लेकर फिर से सेवा में लौट आए.

gupteshwar pandey, gupteswar pandey ko ticket nahi mila, gupteshwar pandey ka kya hoga, gupteshwar pandey contest election, ex dgp bihar, sushant singh rajput case, ips officer, ex dgp gupteshwar pandey, buxar se gupteshwar pandey ko ticket nahi mila, bjp, गुप्तेश्वर पांडेय, गुप्तेश्वर पांडेय का क्या होगा, जेडीयू ने टिकट नहीं दिया, सोशल साइट्स, नीतीश कुमार, जेडीयू प्रत्याशियों की लिस्टबुधवार को ही जेडीयू ने अपने 115 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है.
बुधवार को ही जेडीयू ने अपने 115 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है.


ये भी पढ़ें: बिहार चुनाव: लेफ्ट पार्टियां तो हैं महागठबंधन में, लेकिन क्या स्टार प्रचारक बनेंगे कन्हैया कुमार?

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले गुप्तेश्वर पांडेय के बारे में लोग काफी कॉमेंट कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर ये सवाल तैरने लगे हैं कि अब गुप्तेश्वर पांडेय का अगला कदम क्या होगा? बिहार के राजनीतिक गलियारे में यह सवाल तैरने लगी है कि आखिरकार पांडेय जी को इस बार भी टिकट क्यों नहीं मिला?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज