Home /News /bihar /

harivansh narayan singh continue as rajya sabha deputy speaker after jdu splits from nda lalan singh told reason brvj

जदयू के एनडीए से अलग होने पर भी राज्यसभा के डिप्टी स्पीकर बने रहेंगे हरिवंश, ललन सिंह ने बताई वजह

जदयू अध्यक्ष ललन सिंह ने साफ किया कि हरिवंश नारायण सिंह अपने पद पर बने रहेंगे. (File Photo)

जदयू अध्यक्ष ललन सिंह ने साफ किया कि हरिवंश नारायण सिंह अपने पद पर बने रहेंगे. (File Photo)

Bihar News: जदयू के एनडीए छोड़कर बिहार महागठबंधन की सरकार बनाने के बाद से लगातार यह चर्चा रही है कि क्या हरिवंश नारायण सिंह भी राज्यसभा के उपसभापति का पद छोड़ देंगे? मगर अब इस मामले में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने पार्टी की स्थिति स्पष्ट कर दी है.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में महागठबंधन की सरकार का कैबिनेट विस्तार हो चुका है और एक बार फिर नीतीश कुमार की सरकार काम काज में जुट गई है. वहीं; जब से जदयू एनडीए से बाहर हुआ है तब से यह सवाल उठ रहा है कि क्या राज्यसभा के डिप्टी स्पीकर हरिवंश नारायण सिंह अपने पद से इस्तीफा देंगे? इस बात को लेकर लगातार चर्चा भी होती रही है कि क्या जदयू के एनडीए से बाहर होने के बावजूद वह इस पद पर बने रहेंगे? अब ऐसे सवालों का जवाब जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने दे दिया है. उन्होंने अब साफ तौर पर कह दिया है कि हरिवंश नारायण सिंह को अपने पद से इस्तीफा देने की कोई आवश्यकता नहीं है.

ललन सिंह ने स्पष्ट तौर पर कहा कि एनडीए गठबंधन से जेडीयू का अलग होना राजनीतिक फैसला है, जबकि वह एक सदन में डिप्टी स्पीकर हैं, और यह संवैधानिक पद भी है; जिससे इसका कोई लेना-देना नहीं है. ललन सिंह ने यह भी दावा किया कि हरिवंश सिंह ने स्वयं ही नीतीश कुमार के महागठबंधन में जाने के फैसले की सराहना की है.

ललन सिंह ने एक अखबार से बातचीत करते हुए कहा, हरिवंश ने कहा है कि मैं नीतीश कुमार जी की वजह से ही सार्वजनिक जीवन में हूं. महागठबंधन के साथ जाने का जो फैसला उन्होंने लिया है, मैं उसके साथ हूं. हालांकि; खुद हरिवंश सिंह ने अब तक इस मसले पर सामने आकर कोई टिप्पणी नहीं की है. ललन सिंह ने आगे कहा कि राज्यसभा के डिप्टी स्पीकर पद के लिए चुनाव हुआ था और कई गैर-एनडीए दलों ने भी हरिवंश के लिए वोट किया था.

यहां यह बता दें कि जेडीयू के अलगाव के बाद राज्यसभा में एनडीए की ताकत भी कम हो गई है. फिलहाल सदन में 237 सदस्य हैं और जेडीयू के अलग होने के बाद एनडीए का आंकड़ा 109 पर आ गया है. साफ है कि एनडीए के लिए अब किसी भी बिल को पास कराना थोड़ा और चुनौतीपूर्ण होगा. हालांकि; वाईएसआर कांग्रेस, एआईएडीएमके, बीजेडी जैसे दलों ने कई मौकों पर एनडीए को समर्थन दिया है. बहरहाल देखना दिलचस्प होगा कि आने वाले समय में राज्यसभा का दृश्य कैसा रहता है.

Tags: Bihar NDA, Bihar News, Bihar politics, Harivansh narayan singh

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर