नेपाल में भारी बारिश का अलर्ट, बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों में और बिगड़ सकते हैं हालात

गैर आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार बिहार में बाढ़ से अब तक 194 लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि आपदा प्रबंधन विभाग ने अब तक 104 मौत की पुष्टि की है. विभाग से मिली जानकारी केअनुसार 12 जिलों के 1123 पंचायतों में 69.27 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं.

News18 Bihar
Updated: July 24, 2019, 1:18 PM IST
News18 Bihar
Updated: July 24, 2019, 1:18 PM IST
बिहार के 12 जिले बाढ़ की चपेट में हैं तो इसका बड़ा कारण नेपाल में हो रही भारी बारिश है. वहां के ऊपरी इलाके में हुई बारिश का पानी बिहार के निचले इलाके में तबाही लाती है. एक बार फिर नेपाल में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है और इसको लेकर  रेड अलर्ट जारी किया गया है. जाहिर है इससे बिहार के नेपाल लगे इलाके के लोगों की धड़कनें बढ़ गई हैं. आशंका जताई जा रही है कि पहले से बुरी तरह बाढ़ प्रभावित इलाकों में हालात और बिगड़ सकते हैं.

अब तक 194 की मौत
बता दें कि गैर आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार बिहार में बाढ़ से अब तक 194 लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि आपदा प्रबंधन विभाग ने अब तक 104 मौत की पुष्टि की है. विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 12 जिलों के 1123 पंचायतों में 69.27 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं.

बिहार के12 जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं. अगर नेपाल में भारी बारिश होती है तो बिहार में इससे हालात और मुश्किल हो जाएंगे.


मोतिहारी में सबसे अधिक मौत
वहीं मौत के गैर आधिकारिक आंकड़ों पर जिलावार नजर डालें तो मोतिहारी में बाढ़ से अब तक 49, सीतामढ़ी में 34, मधुबनी में 23, दरभंगा में 20, पूणियां, अररिया और कटिहार में 14-14, शिवहर में 11 मौतें हो चुकी है.

12 जिले हैं बाढ़ प्रभावित
Loading...

वहीं, किशनगंज में अब तक 7, सहरसा में 4, सुपौल और समस्तीपुर में 2-2 लोगों की मौत हुई है. बता दें कि शिवहर, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, अररिया, किशनगंज, सुपौल, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, सहरसा, कटिहार और पूर्णिया में जुलाई महीने की शुरुआत से ही बाढ़ का कहर है.

नेटवर्क इनपुट

ये भी पढ़ें-


तेजस्वी यादव को झटका: IRCTC केस में CBI - ED की अलग-अलग चलेगी सुनवाई

अब्दुल बारी सिद्दीकी और नीतीश कुमार की मुलाकात से घबरा गई है BJP -राबड़ी

First published: July 23, 2019, 3:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...