लाइव टीवी
Elec-widget

ये है बिहार के प्रमुख क्षेत्रों की चुनावी गणित, देखिए कौन, किसके खिलाफ ठोक रहा है ताल

News18 Bihar
Updated: April 9, 2019, 7:23 AM IST
ये है बिहार के प्रमुख क्षेत्रों की चुनावी गणित, देखिए कौन, किसके खिलाफ ठोक रहा है ताल
नीतीश-तेजस्वी (File Photo)

इस लोकसभा चुनाव में कोसी क्षेत्र की बेगूसराय लोकसभा हॉट सीट की तरह है. यहां से केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का मुकाबला युवा नेता कन्हैया कुमार से है.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव 2019 के लिए पहले चरण के मतदान में अब कुछ दिन ही बचे हैं. हर चुनाव में बिहार की राजनीति की चर्चा जोरों पर रहती है. बिहार में एक तरफ सत्तारूढ़ जदयू और भाजपा हैं तो दूसरी ओर राजद-कांग्रेस सहित कई पार्टियों का महागठबंधन. बिहार के चुनाव में इस बार सबसे ज्यादा दिलचस्प यह है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की आलोचना करने वाले नीतीश कुमार इस बार उन्हें दोबारा पीएम बनाने के लिए पक्ष में वोट मांग रहे हैं. ऐसे में बिहार की 40 सीटों का गणित क्या कहता है? आगे पढ़िए किस पार्टी का प्रत्याशी, कहां से, किसके खिलाफ है? और इसका फायदा किसे मिल सकता है?

भोजपुर (8 लोकसभा सीट)
सबसे पहले बात करते हैं भोजपुर क्षेत्र की, जहां लोकसभा की आठ सीटें हैं. बक्सर, आरा, सासाराम, काराकाट, गोपालगंज, सीवान, महाराजगंज और सारण. बक्सर, आरा, सासाराम और काराकाट में उच्च जातियां अधिक संख्या में हैं. इसका फायदा एनडीए को मिलता रहा है. वहीं जातिगत समीकरणों के लिहाज से राजद के लिए सीवान, महाराजगंज, गोपालगंज और सारण काफी मुफीद है. हालांकि 2014 में सीवान की सीट पर मोदी लहर में भाजपा के ओमप्रकाश यादव जीते थे. यह क्षेत्र बाहुबली शहाबुद्दीन के कारण भी अक्सर चर्चा में रहता है. वहीं आरा में भाजपा ने केंद्रीय मंत्री आरके सिंह को मैदान में उतारा है. बक्सर में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे की लड़ाई राजद के मजबूत प्रत्याशी जगदानंद सिंह से है. यहां राजद यादव-मुस्लिम के साथ राजपूत वोटरों को भी साधने की कोशिश में है. ऐसा हुआ तो केंद्रीय मंत्री चौबे के लिए मुश्किल हो सकती है. सारण से केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी मैदान में हैं. उनके खिलाफ लालू प्रसाद के समधी चंद्रिका प्रसाद यादव हैं.

पाटलिपुत्र-मगध

पाटलिपुत्र-मगध क्षेत्र में लोकसभा की 10 सीटें हैं. पाटलिपुत्र, पटना साहिब, जहानाबाद, औरंगाबाद, गया, नवादा, जमुई, बांका, मुंगेर और नालंदा. इस बार पटना साहिब फोकस में है क्योंकि यहां भाजपा ने शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट काटकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को प्रत्याशी बनाया है. वहीं शत्रुघ्न सिन्हा भाजपा छोड़कर कांग्रेस में चले गए और इस सीट से फिर चुनावी मैदान में हैं. उधर, पाटलिपुत्र सीट पर भी जबरदस्त लड़ाई है. इस सीट पर लालू यादव की बेटी मीसा भारती मैदान में हैं तो वहीं भाजपा की तरफ से केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव मैदान में हैं. नीतीश कुमार का गढ़ नवादा में भी जदयू और मांझी की पार्टी 'हम' के प्रत्याशियों के बीच अहम मुकाबला है. पाटलिपुत्र, पटना साहिब, जहानाबाद और नालंदा में सातवें चरण के तहत 19 मई को मतदान है. वहीं औरंगाबाद, गया और नवादा में पहले चरण के तहत 11 अप्रैल को मतदान है. बांका में 18 अप्रैल को और मुंगेर में 29 अप्रैल को चौथे चरण में चुनाव है.

चंपारण
इसमें तीन लोकसभा क्षेत्र हैं. बाल्मीकि नगर, पूर्वी चंपारण और पश्चिमी चंपारण. 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा ने तीनों सीटों पर जीत दर्च की थी. हालांकि इस बार बाल्मीकि नगर को भाजपा ने जदयू के खाते में दे दिया है.
Loading...

मिथिलांचल
मिथिलांचल में लोकसभा की 10 सीटें हैं. सीतामढ़ी, शिवहर, उजियारपुर, मुजफ्फरपुर, वैशाली, हाजीपुर, मधुबनी, झांझरपुर, समस्तीपुर और दरभंगा. इस क्षेत्र में लालू यादव की पार्टी राजद काफी मजबूत है. यादव-मुस्लिम वोटरों के अलावा अति पिछड़ा वर्ग के वोटरों की संख्या भी इन क्षेत्रों में अधिक है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय यहां उजियारपुर से चुनावी मैदान में हैं. उधर, महागठबंधन के हिस्से से आरएलएसपी के हिस्से में यह सीट है. खुद उपेंद्र कुशवाहा यहां से मैदान में हैं. इसी तरह समस्तीपुर सीट पर एनडीए की तरफ से लोजपा ने अपना उम्मीदवार उतारा है. यहां केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के भाई रामचंद्र पासवान चुनाव लड़ रहे हैं. दरभंगा, समस्तीपुर और उजियारपुर में 29 अप्रैल को, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर, हाजीपुर और मधुबनी में 6 मई को मतदान है. शिवहर और वैशाली में 12 मई जबकि झांझरपुर में 23 अप्रैल को मतदान है.

कोसी
कोसी में 5 लोकसभा क्षेत्र हैं. इनमें सुपौल, मधेपुरा, बेगूसराय, खगड़िया और भागलपुर शामिल हैं. इस लोकसभा चुनाव में इस क्षेत्र में बेगूसराय हॉट सीट की तरह है. यहां से केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का मुकाबला युवा नेता कन्हैया कुमार से है. सुपौल से पप्पू यादव की पत्नी रंजीत रंजन मैदान में हैं. राजद की तरफ से शरद यादव मधेपुरा से मैदान में हैं. उनके खिलाफ पप्पू यादव इस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं.

सीमांचल
इस क्षेत्र में 4 लोकसभा सीटें हैं. इनमें अररिया, पूर्णिया, कटिहार और किशनगंज शामिल हैं. यहां मुस्लिम आबादी अधिक है, इसलिए एनडीए के लिए यहां बड़ी चुनौती है. इस बार एनडीए की तरफ से जदयू को तीन सीटें यहां मिली हैं. किशनगंज, कटिहार और पूर्णिया. ऐसे में नीतीश कुमार के सामने इन सीटों पर जीत दर्ज करवाने की चुनौती भी है. वहीं महागठबंधन में ये तीनों सीटें कांग्रेस के खाते में हैं. अररिया सीट जरूर राजद के पास है.

ये भी पढ़ें--

बिहार में नहीं चलेगा महागठबंधन का जादू, NDA को मिलेंगी इतनी सीटें: सर्वे

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 9, 2019, 7:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...