तीन तलाक बिल का मांझी ने किया विरोध, इस्लाम धर्म में बताया हस्तक्षेप

राज्यसभा ने मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देने की प्रथा पर रोक लगाने के प्रावधान वाले एक ऐतिहासिक विधेयक को मंगलवार को मंजूरी दे दी.

News18 Bihar
Updated: July 31, 2019, 11:43 AM IST
तीन तलाक बिल का मांझी ने किया विरोध, इस्लाम धर्म में बताया हस्तक्षेप
बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी
News18 Bihar
Updated: July 31, 2019, 11:43 AM IST
तीन तलाक बिल लोकसभा के बाद राज्यसभा से भी पास हो गया और अब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हस्ताक्षर के बाद यह कानून बन जाएगा. तीन तलाक बिल का बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) जीतन राम मांझी ने विरोध किया है. मांझी ने इस बिल को इस्लाम धर्म में हस्तक्षेप बताते हुए कहा कि इससे धार्मिक अनुयायी असुरक्षित होंगे. इससे एकता और अखंडता को भी खतरा है.

वहीं, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव सह राष्ट्रीय प्रवक्ता धीरेंद्र कुमार सिन्हा उर्फ धीरेंद्र मुन्ना ने जेडीयू पर निशाना साधते हुए कहा कि 'गुड़ खाए गुलगुले से परहेज' की कहावत को नीतीश कुमार ने चरितार्थ किया है. दरअसल, तीन तलाक बिल का विरोध करते हुए लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी जेडीयू के सदस्य सदन से वाकआउट कर गए.

बता दें कि राज्यसभा ने मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देने की प्रथा पर रोक लगाने के प्रावधान वाले एक ऐतिहासिक विधेयक को मंगलवार को मंजूरी दे दी. विधेयक में तीन तलाक का अपराध सिद्ध होने पर संबंधित पति को तीन साल तक की जेल का प्रावधान किया गया है. मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक को राज्यसभा ने 84 के मुकाबले 99 मतों से पारित कर दिया. लोकसभा इसे पहले ही पारित कर चुकी है.

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 31, 2019, 11:22 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...