बिहार के विश्वविद्यालयों में कब से होंगी परीक्षाएं? राजभवन के फैसले का इंतजार
Patna News in Hindi

बिहार के विश्वविद्यालयों में कब से होंगी परीक्षाएं? राजभवन के फैसले का इंतजार
बिहार के विश्वविद्यालयों में परीक्षाओं के संचालन को लेकर राजभवन के निर्देशों का इंतजार किया जा रहा है.

बिहार के सभी विश्वविद्यालयों में राजभवन (Governer House) के फैसले का ही इंतजार किया जा रहा है ताकि उसके गाइडलाइन के अनुसार ही क्लासेज शुरू किए जाएं और पेंडिंग पड़ी परीक्षाओं के लिए आगे बढ़ा जाए.

  • Share this:
पटना. बिहार के विश्वविद्यालयों में कब से क्लासेस शुरू होंगे, कब से परीक्षाएं होंगी, ऐसे कई सवाल स्टूडेंट्स के जेहन में बार-बार उठ रहे हैं. इसको लेकर छात्रों में कौतुहल की स्थिति इसलिए भी हो गई कि पटना यूनिवर्सिटी कि परीक्षाएं जुलाई में होंगी, ये खबर यूनिवर्सिटी की तरफ से आ रही थी. पर फिलहाल इसपर मुहर नहीं लगी है. दरअसल लॉकडाउन (Lockdown) में सारे छात्र अपने घरों पर हैं कुछ छात्र अपने गावों में फंसे हैं ऐसे में परीक्षाओं को लेकर इस एलान के बाद छात्र परेशान थे. पर अब पटना यूनिवर्सिटी (Patna University) के छात्र राहत महसूस कर सकते है क्योंकि फिलहाल  कॉलेज खोलने या पेंडिग परीक्षाएं लेने को लेकर कोई फ़ैसला नहीं लिया गया है.

परीक्षा लेना अभी रिस्की
सोमवार को पटना विशविद्यालय में परीक्षा को लेकर बैठक हुए पर इस बैठक हमें कोई नतीजा नहीं निकला. पीयू रेजिस्ट्रार मनोज मिश्रा ने बताया कि परीक्षा को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है, कोरोना को लेकर अभी कोई स्थिति साफ़ होती नहीं दिख रही है ऐसे में परीक्षा को लेकर अभी कोई शिडयूल नहीं जारी किया जा सकता. अभी भी कोरोना का रिस्क बना हुआ है ऐसे में परीक्षा लेना सहीं नहीं होगा.

​राजभवन के फैसले का इंतजार
परीक्षाओं को लेकर बुलाई गई इस बैठक में हमने ये फ़ैसला लिया है  कि हम राजभवन के निर्देश का इंतज़ार करेंगे. यूनिवर्सिटी अभी कोई फ़ैसला लेने कि स्थिति में नहीं है इसीलिए हम राजभवन के निर्देश का इंतज़ार करेंगे और आगे उसका पालन करेंगे. इससे पहले राजभवन ने विश्वविद्यालय से बची हुई परीक्षा की जानकारी मांगी थी. जिसपर विश्वविद्यालय की तरफ़ से सारी जानकारी राजभवन को भेज दी गई है. लॉकडाउन हो जाने कि वजह से कुछ परीक्षाएं नहीं हो पाई थीं.



दरअसल यूनिवर्सिटी छात्रों में किसी प्रकार का कन्फ़्यूज़न नहीं चाहता इसीलिए पूरी और स्पष्ट जानकारी साझा करने से पहले वक्त ले रहा है. वहीं यूनिवर्सिटी के सामने लॉकडाउन हो जाने कि वजह से पेंडिग हुए पेपर्स के एक्जाम लेने कि जिम्मेदारी है तो दूसरी तरफ सत्र को आगे बढ़ाने की भी.

बता दें कि बिहार के सभी विश्वविद्यालयों में राजभवन के फैसले का ही इंतजार किया जा रहा है ताकि उसके गाइडलाइन के अनुसार ही क्लासेज शुरू किए जाएं और पेंडिंग पड़ी परीक्षाओं के लिए आगे बढ़ा जाए.

ये भी पढ़ें


Bihar Assembly Election: तेजस्वी बने हीरो या मोहरा, क्या BJP ने सेट कर दिया अपना एजेंडा?




मिसाल! जान बचाने वाले हाथियों के नाम लिख दी 5 करोड़ की जायदाद, पढ़ें पूरी कहानी

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज