Home /News /bihar /

how son tejashwi yadav save mother rabri devi position in bihar legislative council know inside story nodmk3

Explained: तेजस्‍वी यादव की रणनीति ने विधान परिषद में कैसे बचाई मां राबड़ी देवी की कुर्सी?

Bihar Political News: राबड़ी देवी विधानपरिषद में विपक्ष की नेता बनी रहेंगी. यह तेजस्‍वी यादव की नई रणनीति से ही संभव हो सका है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Bihar Political News: राबड़ी देवी विधानपरिषद में विपक्ष की नेता बनी रहेंगी. यह तेजस्‍वी यादव की नई रणनीति से ही संभव हो सका है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Bihar Legislative Council News: बिहार विधान परिषद चुनाव के नतीजे आ चुके हैं. यह भी तय हो गया है कि बिहार के उच्‍च सदन में पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी ही विपक्ष की नेता बनी रहेंगी. उनकी पार्टी राष्‍ट्रीय जनता दल ने वह आंकड़ा हासिल कर लिया है, जो विपक्ष का नेता होने के लिए आवश्‍यक होता है.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार विधान परिषद चुनाव 2022 के परिणाम आ चुके हैं. इस बार यह चुनाव राष्‍ट्रीय जनता दल के लिए कई मायनों में महत्‍वपूर्ण रहा. तेजस्‍वी यादव की अगुआई में आरजेडी ने परंपरागत MY फॉर्मूला (मुस्लिम-यादव) से अलग हटते हुए चुनाव लड़ा था. नई रणनीति के तहत लड़े गए चुनाव में राजद को सफलता भी मिली है. इसके साथ ही विधान परिषद में पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी की विपक्ष के नेता की कुर्सी भी बरकरार रही. विधान परिषद चुनाव के लिए नई रणनीति के तहत टिकट बांटने के तेजस्‍वी यादव के फैसले के खिलाफ विरोध के सुर सुनाई पड़े थे, लेकिन चुनाव परिणाम ने विरोधी स्‍वर को काफी हद तक बंद कर दिया.

बिहार विधान परिषद चुनाव में NDA की बढ़त कायम रही, लेकिन आरजेडी उम्मीदवारों की जीत ने यह साफ कर दिया है कि उच्‍च सदन में नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी राबड़ी देवी के पास ही रहेगी. बिहार विधान परिषद में सदस्यों की कुल संख्या 75 है और विरोधी दल के नेता की कुर्सी के लिए कम से कम 8 MLC होना जरूरी है. और राजद ने इस आंकड़े को पार कर लिया है. इससे साफ है कि राबड़ी देवी ही विधान परिषद में विपक्ष की नेता बनी रहेंगी.

लालू यादव के MY फॉर्मूले से आगे निकले तेजस्‍वी यादव, विधानपरिषद चुनाव में हासिल की बड़ी सफलता 

टिकट बंटवारे पर उठे थे सवाल

तेजस्वी यादव जब विधान परिषद चुनाव के लिए टिकटों का बंटवारा कर रहे थे तब पार्टी के अंदर से ही उस पर सवाल उठाए गए थे. कई सवर्णों को टिकट देने की रणनीति को संदेह की नजरों से देखा गया था. विधान परिषद चुनाव में कई सवर्ण प्रत्‍याशी विजयी रहे हैं. इस तरह तेजस्‍वी यादव का फैसला सही साबित हुआ. चुनाव परिणाम ने यह साबित कर दिया कि आरजेडी की नई रणनीति ने न सिर्फ सीट जीतने में मदद पहुंचाई, बल्कि विधान परिषद में नेता विपक्ष की कुर्सी को भी बचा लिया.

NDA को बढ़त

बिहार विधान परिषद की 24 सीटों के लिए चुनाव हुआ था. इसमें NDA का पलड़ा भारी रहा. NDA के खाते में कुल 13 सीटें गईं. वहीं, मुख्‍य विपक्षी पार्टी आरजेडी के प्रत्‍याशी 6 सीटों पर विजयी रहे. इस चुनाव परिणाम का सरकार पर कोई असर नहीं पड़ेगा, लेकिन राजनीतिक पैठ के लिहाज से विधान परिषद के चुनाव को महत्‍वपूर्ण माना जा रहा था. तेजस्‍वी यादव की पार्टी ने इस बार कई सवर्णों को टिकट दिया था.

Tags: Bihar election, RJD leader Tejaswi Yadav

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर