बिहार: आज से पूर्व MLC कहलाएंगे JDU के कई दिग्गज, BJP होगी सबसे बड़ी पार्टी, जानें क्या है समीकरण
Patna News in Hindi

बिहार: आज से पूर्व MLC कहलाएंगे JDU के कई दिग्गज, BJP होगी सबसे बड़ी पार्टी, जानें क्या है समीकरण
बिहार विधान परिषद के 10 सदस्यों का कार्यकाल आज पूरा हो जाएगा.

बता दें कि राज्यपाल (Governer) कोटे से मनोनीत हुए 10 विधान पार्षदों (MLC) का कार्यकाल आज पूरा हो जायेगा. ये सभी जेडीयू (JDU) के एमएलसी हैं.

  • Share this:
पटना. बिहार विधान परिषद (bihar legislative council) की 10 और सीटें आज खाली हो जाएंगी और इसी के साथ ही आज से एमएलसी राम लखन राम रमण, विजय कुमार मिश्रा, राणा गंगेेश्वर सिंह, जावेद इकबाल अंसारी, शिव प्रसन्न यादव, संजय कुमार सिंह, रामवचन राय, ललन कुमार सर्राफ, रणवीर नंदन और रामचंद्र भारती भूतपूर्व सदस्य हो जाएंगे. कोरोना काल () के इस राजनीतिक घटनाक्रम की वजह से अब बिहार विधान परिषद में BJP होगी सबसे बड़ी पार्टी हो जाएगी.

बता दें कि राज्यपाल (Governer) कोटे से मनोनीत हुए 10 विधान पार्षदों का कार्यकाल आज पूरा हो जायेगा. ये सभी जेडीयू (JDU) के एमएलसी हैं. हालांकि यह तथ्य भी साफ है कि अगले कुछ दिनों में प्रदेश के राज्यपाल जब 12 सदस्यों का मनोनयन करेंगे तो विधान परिषद में जेडीयू फिर सबसे बडी पार्टी बन जाएगी.

फिलहाल भाजपा के 17+1 (निर्दलीय अशोक अग्रवाल भाजपा के सहयोगी सदस्य हैं.) जदयू के 15, राजद के 08 +1(निर्दलीय रीतलाल यादव राजद के सहयोगी सदस्य हैं.) कांग्रेस के 02, जीतन राम मांझी की पार्टी हम के   01 और राम विलास पासवान की लोजपा के 01 सदस्य हैं.



गौरतलब है कि राज्य कैबिनेट की सिफारिश पर परिषद के 12 सदस्यों का मनोनयन राज्यपाल करते हैं. 2014 में मनोनीत सभी सदस्य जनता दल यूनाइटेड से ही थी. इनमें से दो राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह और पशुपति कुमार पारस लोकसभा में चले गए. पारस 2018 में मनोनीत हुए थे. 2014 में जदयू के नरेंद्र सिंह मनोनीत हुए थे, जिनकी सदस्यता बीच में ही रद्द हो गई थी.



बहरहाल एक जानकारी केअनुसार नए मनोनयन में भाजपा की भी हिस्सेदारी होगी. हालांकि संख्या तय नहीं है, लेकिन एनडीए सरकार के पहले मनोनयन में भाजपा को 12 में से सात सीटें मिली थीं. अगर यी फार्मूला आगे भी रहा तो सहयोगी के नाते लोक जन शक्ति पार्टी भी एक सीट की मांग कर सकती है. इसलिए भी उसे एक सीट दी गई थी.

इधर विधानसभा कोटे से नौ सीटों का चुनाव लंबित है. इनमें से तीन जेडीयू, दो भाजपा, तीन राजद और एक कांग्रेस के हिस्से में जाएगी. वहीं मई म में राज्यपाल कोटे के अलावा विधानसभा और शिक्षक एवं स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की क्रमश: नौ एवं आठ सीट खाली हुई हैं.

विधानसभा कोटे की नौ में से छह सीटें जदयू और तीन भाजपा की थीं. शिक्षक-स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की आठ में से भाजपा, जदयू और भाकपा की दो-दो सीटें थीं, जबकि कांग्रेस और निर्दलीय सदस्य एक-एक थे.

ये भी पढ़ें


बिहार: आम आदमी के आसरे अपराध कम करने में जुटी बिहार पुलिस! एक्टिव किया ये स्पेशल ग्रुप, जानें कैसे करेगा काम




Amphan का खतरा टला तो अब Heat Wave की बारी! जानें अगले पांच दिनों में कितना चढ़ेगा बिहार का पारा

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading