बिहार में अब शराब लेगी दारोगा से लेकर SP तक की परीक्षा, 7 मांगों पर सरकार करेगी ग्रेडिंग

साथ ही शराब तस्करों की अचल संपत्ति की और कार्रवाई को भी इसमें शामिल करने की बात कही गई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अब हर जिले के एसपी (SP) सभी थाना के पुलिस कर्मियों को शराबबंदी कानून के तहत कार्रवाई के लिए तय किए गए सात मानकों के आधार पर अंक प्रदान करेंगे.

  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar) में दारोगा से एसपी तक के लिए शराब की बरामदगी और शराब तस्करों को सजा मिलने के आधार पर अंक प्रदान किए जाएंगे. दारोगा बाबू से लेकर एसपी साहब तक के लिए 100 अंको की या परीक्षा ग्रेडिंग (Exam Grading) के आधार पर होगी जिसके लिए 7 मानक निर्धारित किए गए हैं. हर महीने मद्य निषेध विभाग के साथ बिहार पुलिस मुख्यालय के स्तर से इसकी मॉनिटरिंग होगी. राज्य में शराबबंदी को और प्रभावी बनाने के मकसद से यह नई योजना लागू की गई है. संबंधित आदेश सभी जिलों में बिहार पुलिस मुख्यालय द्वारा भेज दिया गया है. मध्यनिषेध विभाग के अधिकारियों की माने तो पहले जिला स्तर पर शराब (Alcohol Seizure) जब्ती गिरफ्तारी का डाटा तैयार होता था. लेकिन अब इसे विस्तारित कर थाना के लेवल तक ले जाया गया है.

जब्ती का भी आकलन किया जाएगा
अब हर जिले के एसपी सभी थाना के पुलिस कर्मियों को शराबबंदी कानून के तहत कार्रवाई के लिए तय किए गए सात मानकों के आधार पर अंक प्रदान करेंगे. इसी आधार पर जिले का परफॉर्मेंस रिपोर्ट भी तैयार किया जाएगा. इसमें बेहतर काम करने वाले थाने और खराब प्रदर्शन करने वाले थानों की रैंकिंग निर्धारित की जाएगी. पुलिस अधीक्षक के स्तर पर बनाई गई इस रिपोर्ट का बिहार पुलिस मुख्यालय अपने स्तर से समीक्षा करेगा. सबसे बड़ी बात यह है कि जिलों के प्रदर्शन के आधार पर एसपी के अंक भी निर्धारित किए जाएंगे। पुलिस अफसरों के लिए जिन सात मानको को तय किया गया है। उनमें शराब की बरामदगी से लेकर उसे भी नष्ट करने पुलिस जांच के तरीके और सजा दिलाने तक के लिए अलग-अलग अंक निर्धारित किए गए हैं. अंक देने से पहले इस बात की समीक्षा होगी कि हर महीने देसी विदेसी शराब की बरामदगी कितनी हुई है और कितने शराब तस्कर कानूनी शिकंजे में लिए गए हैं. इसके अलावा वाहन, पैसे और अन्य सामान की जब्ती का भी आकलन किया जाएगा.

टोल फ्री नंबर 15545 जारी कर दिया है
साथ ही शराब तस्करों की अचल संपत्ति की और कार्रवाई को भी इसमें शामिल करने की बात कही गई है. सबसे बड़ी बात यह है कि शराब तस्करों को सजा दिलाने पर भी अंक का प्रावधान रखा गया है और सजा जितनी सख्त होगी इतने ही अंक अधिकारियों को मिल सकेंगे. जैसे अपराधी को अगर मृत्यु दंड मिलता है तो इसके लिए अधिकतम 15 अंक देने की बात है. इसके अलावा होम डिलीवरी को लेकर की गई कार्रवाई और सख्ती पर भी अंक निर्धारित किया गया है. शराब पर रोक के लिए मध निषेध विभाग द्वारा एक दर्जन से अधिक स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप यानी एसओजी का भी गठन किया गया है. जिला स्तर पर गठित टीम द्वारा हाल के दिनों में बेहतर परफॉर्मेंस दिखाया गया है. शराब से जुड़ी शिकायत और सुझाव के लिए विशेष विभाग ने टोल फ्री नंबर 15545 जारी कर दिया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.