Assembly Banner 2021

Bihar News: बढ़ती जनसंख्या से JDU चिंतित, आरसीपी सिंह बोले- आबादी इतनी न बढ़े कि पृथ्वी ही कराहने लगे

हर व्यक्ति को खुद से देखना होगा कि वे कितने बच्चे रखें: आरसीपी सिंह

हर व्यक्ति को खुद से देखना होगा कि वे कितने बच्चे रखें: आरसीपी सिंह

Bihar News: जनसंख्या वृद्धि के मुद्दे को लेकर बिहार में सियासी घमासान मचा हुआ है. इस बीच जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह (RCP Singh) ने कहा है कि बढ़ती जनसंख्या देश की बड़ी समस्या है. आबादी इतनी न बढ़े कि पृथ्वी ही कराहने लगे.

  • Share this:
पटना. जनसंख्या वृद्धि (Population Growth) पर बिहार की राजनीति गरम है. यकीनन सत्ता पक्ष-विपक्ष के नेताओं की बयानबाजी से सूबे की राजनीति का पारा चढ़ गया है. जबकि इस मामले पर सत्ताधारी जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह (RCP Singh) का बड़ा बयान आया है. उन्होंने कहा कि यह एक बड़ी समस्या है और इस पर नियंत्रण के लिए सबका दायित्व बनता है.

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पार्टी के प्रदेश कार्यालय में मीडिया से बातचीत में कहा कि बढ़ती जनसंख्या देश की बड़ी समस्या है. आबादी इतनी न बढ़े कि पृथ्वी ही कराहने लगे. उन्होंने कहा कि जनसंख्या को सिर्फ कानून के नजरिये से नहीं देखना होगा बल्कि उससे भी बड़े स्तर पर देखने की जरूरत है. बढ़ती जनसंख्या को समाजिक और स्वास्थ्य नजरिये से देखना होगा .हर व्यक्ति को खुद से देखना होगा कि वे कितने बच्चे रखें. बढ़ती जनसंख्या से चिंतित आरसीपी सिंह ने कहा कि यह समस्या गम्भीर है और सबका सहयोग जरूरी है.

राम मंदिर निर्माण के लिए दान देने यह बोले आरसीपी सिंह
राममंदिर निर्माण में दान देने के सवाल पर जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने कहा कि दान हल्ला कर नहीं दिया जाता है बल्कि गुप्त दान होता है. दान स्वेच्छा से दिया जाता है और यह आस्था से जुड़ा मामला है. उन्होंने कहा कि जिसको लगता है कि दान करें वो दान करता है. इसमें कौन सी बड़ी बात है?
जेडीयू कार्यालय में मिलन समारोह


बता दें आज जेडीयू प्रदेश कार्यालय में आयोजित मिलन समारोह में विश्वकर्मा समाज के कई नेताओं ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने सभी नेताओं को जेडीयू की सदस्यता दिलाई. इस मौके पर उन्‍होंने कहा कि विश्वकर्मा समुदाय के हाथ में जो हुनर है उससे समाज बनता है. लकड़ी से हर घर में शोभा और सुरक्षा मिलती है. विश्वकर्मा समुदाय सृजन का परिचायक है. इंजीनियर भी निर्माण करते हैं. बिहार सरकार हर जिले में पॉलिटेक्निक और आईटीआई खोल रही है, जो भी बच्चे प्रशिक्षण लेंगे उन्हें रोजगार मिलेगा. आने वाले समय में विश्वकर्मा समाज को और रोजगार मिलेगा. उन्होंने कहा कि जिसके हाथ में हुनर है वे कभी भूखे नहीं मरेंगे. हमारी सरकार इन हुनरमंदों को 5 लाख रुपये का ऋण दे रही है जिसमें 50 फीसदी अनुदान है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज