लाइव टीवी
Elec-widget

बिहार: 'अर्जुन के द्रोणाचार्य' की ताजपोशी की इनसाइड स्टोरी, पढ़ें 10 कारण

News18 Bihar
Updated: November 26, 2019, 8:01 AM IST
बिहार: 'अर्जुन के द्रोणाचार्य' की ताजपोशी की इनसाइड स्टोरी, पढ़ें 10 कारण
जगदानंद सिंह राष्ट्रीय जनता दल के निर्विरोध प्रदेश अध्यक्ष चुने गए. इसकी औपचारिक घोषणा 27 नवंबर को होगी. (फाइल फोटो)

जगदानंद सिंह (Jagdanand Singh) को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने की बात सिर्फ दो ही लोगों को पता थी. पहला लालू यादव और दूसरा तेजस्वी यादव.

  • Share this:
पटना. राष्ट्रीय जनता दल (Rashtriya Janata Dal) में बड़ा फेरबदल किया गया है. पार्टी के वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह को प्रदेश आरजेडी की कमान सौंप दी गई है. माना जा रहा है कि यह फैसला पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) का है और इसमें तेजस्वी यादव की भी पूरी सहमति है. न सिर्फ आरजेडी में, बल्कि बिहार की राजनीति में जगदानंद सिंह की छवि एक ईमानदार और कर्मठ नेता के तौर पर है. वह लालू यादव के खास तो हैं ही, साथ ही पूरे परिवार के करीबी भी हैं. उन्होंने कई बार न सिर्फ लालू परिवार और उनकी पार्टी को संकटों से उबारा है, बल्कि पार्टी की नींव भी मज़बूत रखी.

जगदानंद सिंह झारखंड के रामगढ़ से लंबे समय तक एमएलए रहे हैं. बक्सर से एक बार सांसद भी रह चुके है. वह राजद सरकार में जल संसाधन मंत्री रहे हैं. लालू परिवार के करीबी होने के साथ क्षेत्र में काम के लिए भी जाने जाते हैं, लेकिन क्या इतनी ही वजह रही जो लालू यादव ने उन्हें प्रदेश आरजेडी की कमान सौंप दी?

राजनीतिक जानकार मानते हैं कि आज लालू जेल में बंद हैं तो उनकी गैरहाज़िरी में तेजस्वी को एक मजबूत कोच की तलाश थी जो न सिर्फ उन्हें सही राह दिखाए, बल्कि साल 2020 के विधानसभा चुनावों में उनकी पार्टी को जीत भी दिलाए. ऐसे में जगदानंद सिंह से बेहतर कोच तेजस्वी के सामने कोई नहीं था. माना जा रहा है कि जगदानंद सिंह तेजस्वी यादव की भी पसंद थे और इस मसले को लेकर कुछ समय पहले ही लालू यादव को अपने विश्वास में ले लिया था. लालू यादव को भी जगदानंद सिंह को लेकर कोई एतराज नहीं था, ऐसे में जगदानंद सिंह को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने की राह आसान हो गई. इस कदम को अर्जुन (तेजस्‍वी यादव) के द्रोणाचार्य (जगदानंद सिंह) की ताजपोशी के तौर पर भी देखा जा रहा है.

कहा जाता है कि लालू यादव ने भी ये तय कर लिया था कि साल 2020 की जीत के लिए तेजस्वी को जो भी कोच पसंद आए वे उस पर मुहर लगा देंगे. हालांकि, शर्त बस इतनी थी कि वह कोच उनके भरोसे का भी हो. जाहिर है ऐसे में लालू के सामने जब जगदानंद सिंह का नाम आया तो उन्होंने तेजस्वी की इस मांग को एक पल में स्वीकार कर लिया.

तेजस्वी यादव और लालू यादव की फाइल फोटो.


सूत्रों की मानें तो जगदानंद सिंह को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने की बात सिर्फ दो ही लोगों को पता थी. पहला लालू यादव और दूसरा तेजस्वी यादव. बहरहाल, जगदानंद सिंह को अध्यक्ष बनाने के पीछे कई कारण भी बताए जा रहे हैं.


Loading...

1. आरजेडी के सीनियर नेताओं में तेजस्वी सबसे ज्यादा भरोसा जगदानंद सिंह पर ही करते रहे हैं.


2. लालू की गैरमौजूदगी में शुरू से ही तेजस्वी को जगदानंद सिंह ही गाइड करते रहे हैं.


3. तेजस्वी यादव और जगदानंद सिंह के बीच अच्छी अंडरस्टैंडिंग मानी जाती है. उनपर लालू तेजस्वी और पूरे परिवार को भरोसा है.


4. ऐसे समय में जब लालू जेल में बंद हैं और तेजस्वी जांच एजेंसियों के चक्कर में हैं, लालू परिवार के पास जगदानंद सिंह से बेहतर विकल्प कोई नहीं था.


5. पार्टी के भीतर जगदानंद सिंह की पहचान एक सशक्त और विद्वान नेता की है. वह जब बोलते हैं तो उनकी बात को काटने का साहस आज भी किसी नेता के बीच नहीं है.


6. रघुवंश प्रसाद सिंह भी लालू परिवार के बेहद भरोसेमंद रहे हैं, लेकिन माना जाता है कि तेजस्वी उनसे ज्यादा भरोसा जगदानंद सिंह पर ही करते हैं.


7. तेजप्रताप ने भी लालू प्रसाद और तेजस्वी को कह दिया था कि रामचंद्र पूर्वे उन्हें मंजूर नहीं, ऐसे में जगदानंद सिंह तेजप्रताप की भी पसंद बन गए.


8. सवर्ण आरक्षण का विरोध करके आरजेडी ने जो अगड़ों को नाराज किया था, जगदानंद सिंह को अध्यक्ष बनाकर इसे सवर्णों को मनाने की एक कोशिश भी मानी जा रही है.


9. आरजेडी का सबसे सफल सदस्यता अभियान जिसमें पहली बार आरजेडी ने करोड़ सदस्यों का आंकड़ा पार किया, जिसका पूरा श्रेय जगदानंद सिंह को ही जाता है.


10. जगदानंद सिंह को आरजेडी का चाणक्य भी माना जाता है. वह बहुत कम बोलते हैं, लेकिन विरोधियों की चाल को बहुत बारिकी से पकड़ते हैं.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 7:27 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com