लाइव टीवी

प्रमाण पत्रों में हेराफेरी कर बन बैठा IRS अधिकारी, चोरी पकड़ी गई तो CBI ने दर्ज किया केस

News18 Bihar
Updated: October 12, 2019, 8:48 AM IST
प्रमाण पत्रों में हेराफेरी कर बन बैठा IRS अधिकारी, चोरी पकड़ी गई तो CBI ने दर्ज किया केस
सीबीआई ने फर्जी दस्तावेज जमा करके परीक्षा देने वाले आईआरएस अधिकारी पर मामला दर्ज किया.. (सांकेतिक तस्वीर)

आरोपी अधिकारी ने अपने प्रमाणपत्रों में एक गलती कर दी कि दोनों नाम में आरोपी का नाम अलग-अलग है, लेकिन पिता और अन्य पता एक ही है.

  • Share this:


पटना. केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) ने बिहार (Bihar) मूल के रहने वाले एक IRS अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस अधिकारी पर आरोप है कि उन्होंने फर्जी प्रमाणपत्रों (Fake Certificates) के सहारे सरकारी नौकरी हासिल किया था. आरोपी आईआरएस अधिकारी (IRS Officer) का नाम नवनीत कुमार (Navneet Kumar) उर्फ राजेश कुमार शर्मा (Rajesh Kumar Sharma) है जो साल 2008 बैच का आईआरएस अधिकारी है. दरअसल नवनीत कुमार उर्फ राजेश कुमार शर्मा दोनों एक ही शख्स के नाम हैं, लेकिन अलग-अलग नाम से परीक्षा देकर दो अलग-अलग प्रमाणपत्रों को हासिल किया था.

बता दें कि आरोपी IRS अधिकारी नवनीत कुमार वर्तमान में कोलकाता में CGST विभाग में कार्यरत हैं.



कैसे राजेश कुमार शर्मा बना नवनीत कुमार? 

मूल रूप से पश्चिमी चंपारण जिले के गर्भुआ गांव के रहने वाले इस अधिकारी के पिता का नाम जय नारायण शर्मा है. राजेश कुमार शर्मा ने बेतिया जिला में स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय से वर्ष 1991 में 10वीं की परीक्षा पास की और उसके बाद 1993 में 12वीं की परीक्षा CBSE बोर्ड से पास की. इसके बाद वो यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करने लगा, लेकिन काफी वक्त बीत जाने के बाद भी उसकी नौकरी नहीं लगी और परीक्षा देने की उम्र खत्म होने लगी.


Loading...

दूसरे नाम से दोबारा मैट्रिक परीक्षा दी

इसके बाद राजेश ने अपना नाम बदलकर नवनीत कुमार के नाम से बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के माध्यम से फिर से परीक्षा देकर साल दोबारा 1996 में 10वीं क्लास और साल 2003 में 12वीं क्लास का प्रमाण पत्र हासिल किया. इसके बाद साल 2008 में स्नातक की परीक्षा मुज्जफरपुर में स्थित बाबा साहेब बिहार विश्वविद्यालय से पास की और प्रमाण पत्र पाया. इसके बाद साल 2007 में UPSC की परीक्षा में पास होकर साल 2008 में IRS अधिकारी बन गया.


एक गलती से पकड़ी गई अधिकारी की चोरी

इस बात की जानकारी सामने आने पर इसकी आतंरिक जांच करवाने के बाद सीबीआई को इस मामले की जानकारी दी गई, और अब मामला सबके सामने है. दरअसल आरोपी अधिकारी ने अपने प्रमाणपत्रों में एक गलती कर दी कि दोनों नाम में आरोपी का नाम अलग-अलग है, लेकिन पिता और अन्य पता एक ही है. जिससे जांच अधिकारी को ये मामला समझने में दिक्कत नहीं हुई.


CBI ने पटना जोन में मामला दर्ज किया

सीबीआई की टीम इस मामले में तफ्तीश करने आरोपी अधिकारी के बिहार स्थित उनके पैतृक गांव और परीक्षा समीति के दफ्तर भी गई थी. जांच एजेंसी ने गांव के मौजूदा मुखिया सहित कई लोगों के बयान दर्ज कर कई महत्वपूर्ण सबूतों को इकट्ठा किया. इसके आधार पर सीबीआई इस मामले में पटना जोन में मामला दर्ज कर अब आगे की तफ्तीश में जुट गई है.


खतरे में पड़ी IRS की अधिकारी की नौकरी



बहरहाल मामला सामने आने के बाद ये स्पष्ट है कि कैसे कोई व्यक्ति अपने जन्म की असली तिथि और असली तारीख में पास हुए परीक्षाओं से जुड़े प्रमाणपत्रों को छिपाकर दूसरी बार एग्जाम दे देता है, और अपनी उम्र कम बताकर सरकारी नौकरी हासिल कर लेता है. बहरहाल सीबीआई के मामला दर्ज करने से अब उसकी नौकरी खतरे में पड़ गई है.

ये भी पढ़ें-



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 7:53 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...