Bihar Assembly Elections 2020: क्या बिहार में संभव है ऑनलाइन चुनाव!
Patna News in Hindi

Bihar Assembly Elections 2020: क्या बिहार में संभव है ऑनलाइन चुनाव!
बिहार में विधान परिषद के चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है. सांकेतिक फोटो.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के खतरे के बीच बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) की हलचल शुरू हो गई है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
पटना. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के खतरे के बीच बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) की हलचल शुरू हो गई है. अक्टूबर-नवंबर महीने में बिहार में विधानसभा का चुनाव प्रस्तावित है. राज्य में कोरोना के बाद या कोरोना संकट के बीच चुनाव कराना चुनाव आयोग (Election Commision) के लिए सबसे बड़ी चुनौती है. कोरोना संक्रमण को देखते हुए बिहार के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी नेता सुशील मोदी (Sushil Modi) ने ऑनलाइन वोटिंग की संभावना जताई है.

चुनाव आयोग में नहीं हुई है चर्चा
वहीं, चुनाव आयोग के सूत्रों का कहना है कि चुनाव आयोग के अंदर आगामी बिहार विधानसभा चुनाव पर अभी तक कोई चर्चा नहीं हुई है. बिहार विधानसभा चुनाव में ऑनलाइन वोटिंग संभव नहीं है.

भारत में ऑनलाइन वोटिंग संभव नहीं: आरजेडी



आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा कि भारत में ऑनलाइन वोटिंग संभव नहीं. हवा में क्यों बात करें? विपदा के काल में ये संवेदनहीन चर्चा है. आरजेडी का फोकस कोरोना पर है न कि चुनाव पर. क्या सुशील मोदी चुनाव आयोग का पर्याय बन गए हैं?



केसी त्यागी बोले- चुनाव अभी हमारे एजेंडे में नहीं
वहीं, जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि फिलहाल जेडीयू कोरोना से लड़ने में लगी है. ये भविष्य के गर्भ में है कि चुनाव के समय कैसी परस्थिति होगी और चुनाव आयोग क्या फैसला लेगा? चुनाव अभी हमारे एजेंडे में नहीं है. चुनाव आयोग राजनीतिक दलों से भी राय-मशविरा कर सकती है.

कोरोना महामारी के बीच दक्षिण कोरिया ने कराया चुनाव
गौरतलब है कि दक्षिण कोरिया दुनिया का ऐसा पहला देश बना है जिसने कोरोना महामारी के बीच चुनाव कराया. सभी मतदान केंद्रों को लगातार सैनिटाइज करने की प्रक्रिया चलाई गई तो हाथ में दास्ताने, मास्क और सैनिटाइजर अनिवार्य तौर से मतदाताओं के पास था. सभी मतदाताओं के बीच सुरक्षित दूरी सुनिश्चित तो की ही गई, सबके शरीर का तापमान रिकॉर्ड करने के बाद ही मतदान केंद्र के भीतर जाने की अनुमति मिली. अगर किसी का तापमान निर्धारित सीमा से ऊपर था तो उसे अलग मतदान केंद्र पर ले जाया गया जो खास तौर से इसी तरह के मामले को ध्यान में रखते हुए बनाया गया था. चुनाव के समय करीब 2800 कोरोना मरीज थे जिसे ई-मेल या जाने की स्थिति में हो तो विशेष तौर से बनाए गए मतदान केंद्र पर जाकर वोट कर सकता था. जबकि खुद को क्‍वारंटाइन रखने वाले 13 हजार से ज्यादा लोगों को मतदान के बाद बैलेट पेपर से मतदान की छूट दी गई. यानी दक्षिण कोरिया ने पूरे एहतियात और सैनिटाइजेशन की प्रक्रिया को सख्ती से पालन कराकर चुनाव को अंजाम दिया.

ये भी पढ़ें- बिहार बोर्ड 10वीं रिजल्ट पर बड़ी अपडेट, जानें कब आएंगे नतीजे

Lockdown में करोड़पति नहीं रहे 'हनुमान जी', रोजाना हो रहा लाखों रुपए का नुकसान
First published: May 24, 2020, 10:46 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading