लाइव टीवी

कोहरे की वजह से बिहार की ट्रेनें नहीं होंगी लेट, सैटेलाइट से रेलवे रखेगा नजर

Neel kamal | News18 Bihar
Updated: December 7, 2019, 10:49 PM IST
कोहरे की वजह से बिहार की ट्रेनें नहीं होंगी लेट, सैटेलाइट से रेलवे रखेगा नजर
कोहरे में ट्रेनों की लेटलतीफी रोकने के लिए रेलवे इस बार इसरो के सैटेलाइट की मदद लेगा.

उत्तर भारत में ठंड और कोहरे (fog) का असर सबसे ज्यादा ट्रेनों (Train) के परिचालन पर पड़ता है. लिहाजा इस बार भारतीय रेल (Indian Railway) कोहरे और पटरी में दरार आने की घटनाओं से निपटने के लिए टेक्नोलाजी का इस्तेमाल कर रही है. इसरो के सैटेलाइट (ISRO Satellite) की मदद से ट्रेन के रियल टाईम परिचालन पर नजर रखा जाएगा.

  • Share this:
पटना. सफर के दौरान ट्रेन लेट हो जाए, तो रेलयात्रियों के लिए इससे ज्यादा परेशानी की बात और कोई नहीं होती. खासकर ठंड के दिनों में तो कोहरे (fog) की वजह से (Train Running late due to fog) उत्तर भारत के कई शहरों की ओर जाने वाली ट्रेनें अक्सर घंटों-घंटों लेट हो जाती हैं. ट्रेनों की लेटलतीफी की वजह से तो कई बार रेलवे को कई ट्रेनों को रद्द तक करना पड़ता है. लेकिन इस साल यात्रियों की इस परेशानी को कम करने के लिए रेलवे ने पहले से इंतजाम करने की शुरुआत कर दी है.

भारतीय रेल (Indian Railway) इस बार कोहरे के दौरान ट्रेनों को लेट होने से बचाने के लिए इसरो के सैटेलाइट (ISRO Satellite) की मदद लेगा. पूर्व मध्य रेलवे (East Central Railway) के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि भारतीय रेल ने इसरो की मदद से रियल टाईम फ्रेम इंफॉरमेशन सिस्टम से सभी ट्रेनों की मॉनिटरिंग शुरू कर दी है. इससे ना सिर्फ रेलवे, बल्कि यात्री और उनके परिजन भी जान सकेंगे कि उनकी ट्रेन कहां है. साथ ही यह ट्रेन कब अपने गंतव्य पर पहुंचेगी. आम लोग अपने एंड्रॉयड मोबाइल पर नेशनल ट्रेन इंक्वायरी सिस्टम एप को डाउनलोड कर ट्रेनों के स्टेटस को चेक कर सकेंगे.

दुर्घटनाओं की भी रोकथाम
पूर्व मध्य रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि रेलवे ने इस बार कोहरे की वजह से होने वाली दुर्घटना को रोकने के लिए इंजन चालकों को फॉग सेफ्टी डिवाइस (Fog Safety Device) से लैस करना शुरू कर दिया है. यह डिवाइस घने कोहरे में भी ट्रेन के रास्ते में आने वाले सिग्नल और गेट की स्थिति की सूचना देता है. सीपीआरओ ने बताया कि चूंकि अब सभी सिग्नल एलईडी कर दिए गए हैं, इसलिए ये दूर से भी दिख जाते हैं. अगर घने कोहरे में सिग्नल नहीं दिखेगा तो यह डिवाइस इंजन ड्राइवर को सूचित कर देगा. इसके अलावा ठंड के दिनों में पटरियों में दरार आने की भी घटनाएं होती हैं. सीपीआरओ ने बताया कि ठंड के दिनों में रेलकर्मी टॉर्च लेकर ट्रैक का निरीक्षण करेंगे. ये रेलकर्मी जीपीएस से लैस होंगे. अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि इन कर्मचारियों की मॉनिटरिंग के साथ-साथ पटरियों का निरीक्षण भी करते रहें.

यात्रियों ने कहा- सुरक्षा के साथ सफाई भी जरूरी
एक तरफ रेलवे जहां ठंड के दिनों में ट्रेनों की लेटलतीफी को कंट्रोल करने में जुटा है, वहीं ऐसे प्रयासों की रेलयात्रियों ने भी सराहना की है. पटना स्टेशन पर ट्रेन के इंतजार में बैठे यात्रियों ने कहा कि ये अच्छी बात है कि ट्रेनों की लेटलतीफी और सुरक्षा संबंधी उपायों पर ध्यान दिया जा रहा है. लेकिन रेलवे को चाहिए कि वह ट्रेनों के अंदर साफ-सफाई पर भी ध्यान दे. यात्रियों ने कहा कि कई ट्रेनों में रखे डस्टबिन साफ नहीं किए जाते हैं. बोगी में कचरा फैला रहता है. रेलवे को इस समस्या की ओर भी ध्यान देना चाहिए.

ये भी पढ़ें -RJD नेता ने हैदराबाद इनकाउंटर की उठाई जांच की मांग

'चूड़ियां' करेंगी महिलाओं की सुरक्षा, छूते ही पुलिस को पहुंच जाएगी सूचना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 7, 2019, 6:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर