लाइव टीवी

CAA को लेकर दो खेमे में बंटा JDU! डैमेज कंट्रोल करने में जुटे CM नीतीश

Amit Singh | News18 Bihar
Updated: December 15, 2019, 3:30 PM IST
CAA को लेकर दो खेमे में बंटा JDU! डैमेज कंट्रोल करने में जुटे CM नीतीश
CAA पर सीएम नीतीश कुमार के रुख पर सबकी नजर है. (फाइल फोटो)

CAA के मसले पर जिस तरह से प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) ने पार्टी के खिलाफ अपनी राय रखी थी, सबको उम्मीद था कि नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) कोई बड़ी कार्रवाई नहीं करेंगे.

  • Share this:
पटना. अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) से पहले क्या बिहार की रूलिंग पार्टी जेडीयू (JDU) में पावर गेम चल रहा है. नागरिकता संसोधन अधिनियम (CAA) पर पार्टी से अलग राय रखने वाले प्रशांत किशोर ने शनिवार की देर शाम सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की, लेकिन उनके जवाब जाते-जाते कई सवाल छोड़ गए. मुख्यमंत्री आवास में नीतीश से पीके (PK) की मुलाकात करीब 2 घंटे तक चली. बातचीत के बाद जब पीके सीएम आवास से बाहर निकले तो उन्होंने मीडिया को बताया कि हम अपने स्टैंड पर कायम हैं और सीएम नीतीश कुमार बहुत जल्द पूरे मसले पर अपनी राय रखेंगे. पीके के स्टैंड से साफ दिखा कि भले पार्टी यानी जेडीयू के नेता उनपर काउंटर अटैक कर रहे हों, लेकिन नीतीश पीके को खोना नहीं चाहते. ऐसे में सवाल यह उठता है कि जेडीयू का यह पावर गेम किसके बीच और क्‍यों चल रहा है?

CAB के बहाने शक्तिपरीक्षण
CAB (अब CAA) तो महज एक बहाना है, असलियत में यह पार्टी के अंदर का पावर गेम है. जी हां! वैसा पावर गेम जिसमें नीतीश कुमार के दो धुरंधर न सिर्फ अपनी ताकत की जोर-आजमाइश कर रहे हैं, बल्कि मौका मिलते ही एक-दूसरे पर हावी भी हो रहे हैं. प्रशांत किशोर के पार्टी विरोधी बयान के बाद उनका पार्टी के अंदर न सिर्फ खुलकर विरोध शुरू हो गया है, बल्कि सांसद आरसीपी सिंह ने सीधे-सीधे पीके के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. हालांकि, अगले ही दिन प्रशांत किशोर की सीएम आवास में नीतीश कुमार से 2 घंटे की मुलाकात ने आरसीपी की हवा निकाल दी है. खबर यह भी है कि इस मुलाकात के बाद से आरसीपी सिंह बेहद नाराज हैं. आरसीपी कतई नहीं चाहते थे कि नीतीश कुमार प्रशांत किशोर से मुलाकात करें, लेकिन पीके ने न सिर्फ नीतीश कुमार से मुलाकात की, बल्कि डंके की चोट पर अपने इस्तीफे की पेशकश कर मास्टरस्ट्रोक भी लगा दी. पार्टी के भीतर जमकर खेमेबाजी चल रही है, ऐसे में नीतीश कुमार अपने दोनों रणबांकुरों में सुलह कराने में लगे हुए हैं.

पीके का इस्तीफा एक मास्टरस्ट्रोक

प्रशांत किशोर सीएम नीतीश कुमार के सामने इस्तीफे की पेशकश तक कर दी. बताया जाता है कि पीके पार्टी के वरिष्‍ठ नेता आरसीपी सिंह के बयान से बहुत नाराज थे. उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अपना इस्तीफा सौंपते हुए यहां तक कह दिया कि अगर मेरे कारण पार्टी या किन्हीं को नाराजगी है तो वह स्वेच्छा से इस्तीफा देने को तैयार हैं. वहीं, नीतीश कुमार ने उनके इस्तीफे को यह कहकर रिजेक्ट कर दिया कि आप पार्टी में मजबूती से रहिए. सीएम ने दूसरे की बातों पर ज्‍यादा ध्यान न देने की भी सलाह दी. सूत्रों का कहना है कि नीतीश कुमार ने पीके से कह कि वह खुद इसकी मॉनीटिरिंग कर रहे हैं. पीके जब मुलाकात के बाद सीएम आवास से बाहर निकले तो उन्होंने यह बात साफ-साफ कह दिया कि किसी के खिलाफ टिप्पणी नहीं करेंगे. उन्‍होंने कहा कि आरसीपी सिंह पार्टी के वरिष्‍ठ नेता हैं और वह उनपर कुछ नहीं बोलेंगे. हालांकि, उन्‍होंने स्‍पष्‍ट कर दिया कि वह अपने स्टैंड पर कायम हैं.

पीके-नीतीश की मुलाकात से RCP कैंप में मायूसी
CAA के मसले पर जिस तरह से पीके ने पार्टी के खिलाफ अपनी राय रखी थी, सबको उम्मीद था कि नीतीश कुमार इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे. पीके के खिलाफ कोई बड़ा एक्शन लेंगे, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ. उल्टे नीतीश कुमार ने उनके इस्तीफे को नामंजूर करके पीके का कद बढ़ा दिया. इससे आरसीपी कैंप को बड़ा झटका लगा है.पीके का यू टर्न
प्रशांत किशोर का राजनीतिक सफर भले ही छोटा हो, लेकिन उनमें राजनीति की समझ बाकियों से कही ज्यादा है. यह बात शायद नीतीश कुमार भी भलीभांति जानते हैं तभी तो इतनी बगावत के बाद भी नीतीश कुमार उनके खिकाफ कोई एक्शन नहीं लेते. पीके की राजनीतिक समझ का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जब उनके बयान को लेकर पार्टी के भीतर हर तरफ से आवाजें उठने लगीं तो उन्होंने समय को भांपते हुए अपने फैसले पर ही यू टर्न ले लिया. सीएम से मुलाकात के बाद जब वह बाहर निकले तो उनके तेवर न सिर्फ नरम थे, बल्कि पीके ने कहा CAA उतना नुकसानदेह नहीं है, लेकिन अगर CAA के साथ NRC भी जुड़ जाए तो यह बेहद खतरनाक है. पीके ने कहा कि सीएम नीतीश भी NRC के खिलाफ हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2019, 2:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर