तेजप्रताप के बयान ने ली रघुवंश बाबू की जान! 'लालू के लाल' पर आरोप से सियासत गर्माई

रघुवंश प्रसाद लालू से बड़े कद के नेता थे, ऐसे में तेजप्रताप का यह बयान उन्हें सदमा दे गया.

Raghuvansh Prasad Singh Death: रघुवंश प्रसाद सिंह का निधन रविवार को दिल्ली स्थित एम्स में इलाज के दौरान हो गया था. उनकी मौत के बाद से लालू प्रसाद के छोटे बेटे को चौतरफा हमले झेलने पड़ रहे हैं.

  • Share this:
पटना. रघुवंश प्रसाद सिंह के निधन (Raghuvansh Prasad Singh Death) के बाद बिहार में जहां शोक की लहर है तो दूसरी तरफ समाजवादी नेता के निधन पर सियासत भी शुरू हो चुकी है. बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने बड़ा बयान देते हुए रघुवंश बाबू के निधन का कारण तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) को बताया है. जीतन राम मांझी ने तेजप्रताप के एक बयान को रघुवंश प्रसाद सिंह के मौत का कारण बताया है. मांझी ने सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जब सीएम, तेजस्वी यादव सहित तमाम लोग श्राद्धाजंलि देने पहुंचे तो फिर तेजप्रताप क्यों नहीं पहुंचे. श्रद्धाजंलि देने नहीं जाना उनके संस्कार को दिखाता है.

जीतन राम मांझी ने कहा कि तेजप्रताप ने रघुवंश प्रसाद सिंह के आरजेडी से जाने को तुलना समुंद्र से लोटा भर पानी निकलने से की थी. रघुवंश बाबू इस बयान की पीड़ा सह नहीं पाए. जिसने पार्टी को 35 सालों तक सींचा उसे अगर लोटा भर पानी समझा जायेगा वो सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाएगा. मांझी ने यहां तक कहा कि रघुवंश बाबू का निधन नहीं, बल्कि लालू परिवार के द्वारा साजिशन हत्या है.

बीजेपी में भी तेजप्रताप के बयान को बताया कारण
जीतन राम मांझी के बाद बीजेपी नेता प्रेम रंजन पटेल ने भी तेजप्रताप के बयान को कारण मानते हुए कहा है कि तेजप्रताप का यह बयान रघुवंश बाबू के करियर पर सबसे बड़ा हमला है. रघुवंश प्रसाद लालू से बड़े कद के नेता थे, ऐसे में तेजप्रताप का यह बयान उन्हें सदमा दे गया.

आरजेडी ने मांझी पर निकाली भड़ास
जीतन राम मांझी के तेजप्रताप पर दिए गए बयान को आरजेडी ने आड़े हाथों लिया है. पार्टी नेता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि मांझी आज जिस गठबंधन में गए हैं, वहां लोग पहले से ही मौत पर सियासत करते हैं. पहले सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर सियासत की उसके बाद अब रघुवंश प्रसाद की मौत पर सियासत कर रहे हैं. तिवारी ने कहा कि रघुवंश बाबू आरजेडी के लिए गरिमा की बात हमेशा से रहे हैं. रघुवंश बाबू पर सियासत करना छोड़ देना चाहिए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.