• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • बिहार चुनाव के बाद JDU में बड़ा बदलाव, लोकसभा से लेकर विधानसभा क्षेत्र तक की दी गई जिम्मेदारी

बिहार चुनाव के बाद JDU में बड़ा बदलाव, लोकसभा से लेकर विधानसभा क्षेत्र तक की दी गई जिम्मेदारी

बिहार में जेडीयू में संगठन स्तर पर बड़ा बदलाव किया गया है (फाइल फोटो)

बिहार में जेडीयू में संगठन स्तर पर बड़ा बदलाव किया गया है (फाइल फोटो)

Bihar JDU: बिहार चुनाव में मिली हार के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी छोड़ दी थी तो वहीं उनकी ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद पर भी नए चेहरे की ताजपोशी हुई है.

  • Share this:

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) में उम्मीद के मुताबिक सीट नहीं मिलने और संगठन पर उठे सवाल के बाद JDU ने पार्टी संगठन में कई बड़े बदलाव किए हैं. राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष सहित संगठन में और कई बदलाव किए गए. ये बदलाव पहले भी होते आए हैं लेकिन इस बार JDU ने पार्टी में पहली बार संगठन में नेताओं के बीच पावर का विकेंद्रीकरण किया है. कैसे इसे कुछ इस तरह से समझ सकते हैं.

JDU ने पहली बार लोकसभा की तमाम सीटों पर लोकसभा क्षेत्र प्रभारी की नियुक्ति की है. विधानसभा की तमाम सीटों पर विधानसभा प्रभारी नियुक्त किये गए हैं. 41 ज़िला इकाईयों के लिए पहली बार मुख्य ज़िला प्रवक्ता नियुक्त किया गया है. युवा JDU प्रकोष्ठ के दक्षिण बिहार का अध्यक्ष, युवा JDU प्रकोष्ठ उतर बिहार अध्यक्ष की नियुक्ति, अति पिछड़ा प्रकोष्ठ उतर बिहार के अध्यक्ष की नियुक्ति, अति पिछड़ा प्रकोष्ठ दक्षिण बिहार के अध्यक्ष की नियुक्ति. महिला प्रकोष्ठ की बिहार अध्यक्ष बनाया गया तो साथ ही उसकी प्रभारी भी अलग से नियुक्त की गई.

हर विधान सभा के अलग-अलग प्रभारी बनाए गए जो विधानसभा के पार्टी संगठन को देखेंगे. उतर बिहार के महादलित प्रकोष्ठ के अध्यक्ष बनाए गए तो वहीं दक्षिण बिहार के अलग से अध्यक्ष बनाए गए. किसान प्रकोष्ठ के उतर बिहार के अध्यक्ष बनाया गया तो इनके साथ ही दक्षिण बिहार के अलग अध्यक्ष बनाए गए. यही हाल छात्र युवा के अध्यक्ष का रहा — उतर और दक्षिण बिहार का अलग अलग प्रदेश अध्यक्ष बनाए गए

ज़ाहिर है , JDU के अलग अलग प्रकोष्ठ के अध्यक्ष बना कर JDU कि शीर्ष नेतृत्व ने एक बड़ा मैसेज देने की कोशिश की गई है. विधानसभा चुनाव में JDU संगठन की कमजोरी खुल कर सामने आई थी जिसकी वजह से पार्टी का हाल गड़बड़ हो गया. पार्टी के कुछ नेताओं के ऊपर बड़ी ज़िम्मेवारी आई लेकिन वो पूरे बिहार में अपनी अहमियत ठीक से जता नहीं पाए नतीजा विधानसभा चुनाव परिणाम सामने है लेकिन अब JDU ने अलग अलग प्रकोष्ठ की ज़िम्मेवारी अलग-अलग नेताओं को देकर ये साफ़ कर दिया है कि जिम्मेदारी लेने वाला नेता पार्टी को ज़्यादा से ज़्यादा समय दे सके जिसकी वजह से पार्टी को भी पूरी मज़बूती मिल सके.

इसके पहले पूरे बिहार की ज़िम्मेदारी मिलने के बावजूद पार्टी संगठन को हर ज़िला में पर्याप्त मौका नहीं दे पाते थे, जिसकी वजह से नुकसान JDU का होता था , लेकिन JDU के इस नए प्रयोग से JDU को उम्मीद है इसका फ़ायदा आने वाले समय में JDU को मिलेगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज