एग्जिट पोल पर बोली जेडीयू, तीनों बीजेपी शासित राज्यों के नतीजे चिंता पैदा करने वाले

केसी त्यागी ने कहा कि तीन राज्यों में बीजेपी की ही सरकार है, इसलिए सवालों के जवाब हमारे सहयोगी को देने और तलाशने होंगे. चुनावी नतीजे कुछ भी रहें, लेकिन गठबंधन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. जेडीयू गठबंधन का बहुत अहम अंग है और मजबूती से बना रहेगा.

News18 Bihar
Updated: December 8, 2018, 5:17 PM IST
एग्जिट पोल पर बोली जेडीयू, तीनों बीजेपी शासित राज्यों के नतीजे चिंता पैदा करने वाले
केसी त्यागी (फाइल फोटो)
News18 Bihar
Updated: December 8, 2018, 5:17 PM IST
एग्जिट पोल के नतीजों के आधार पर जेडीयू ने केन्द्र सरकार को आगाह किया है. पार्टी के प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि अगर 11 तारीख को भी ऐसे ही रहते हैं तो चिंता पैदा करने वाले हैं . हमें अपनी कार्य प्रणाली, कार्य पद्धति, सवाल उठाने वाले तौर-तरीकों और अपनी प्राथमिकताओं पर भी बैठ कर चिंतन करना होगा.

उन्होंने कहा कि तीन राज्यों में बीजेपी की ही सरकार है, इसलिए सवालों के जवाब हमारे सहयोगी को देने और तलाशने होंगे. के सी त्यागी ने कहा कि चुनावी नतीजे कुछ भी रहें, लेकिन गठबंधन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. जेडीयू गठबंधन का बहुत अहम अंग है और मजबूती से बना रहेगा.

ये भी पढ़ें-  अखिलेश-मायावती के साथ आने से बीजेपी की धड़कन बढ़ जाती है: तेजस्वी यादव

केसी त्यागी ने बुलंदशहर मामले को लेकर योगी आदित्यनाथ की सरकार पर सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि सीएम योगी के उस वक्तव्य से असहमत हूं कि बुलंदशहर की घटना मॉब लिंचिंग का मामला नहीं है. आक्रोशित भीड़ कानून को हाथ में ले,न्याय को अपने हाथ ले और खुद फैसला करे तो वो मॉब लिंचिंग का केस बनता है. पहलू खां, अखलाक और सुबोध सिंह की हत्या का मामला मॉब लिंचिंग का मामला है.

ये भी पढ़ें-  आशुतोष की घातक गेंदबाजी के सामने टिक नहीं पाई अरुणाचल की टीम, बिहार की सबसे बड़ी जीत

केसी त्यागी ने उपेंद्र कुशवाहा के बारे में कहा कि वे कृत्रिम सहानुभूति बटोरने और पैदा करने का नाकाम प्रयास कर रहे हैं. उनका ये किस्सा नाखून कटाकर शहीद होने का हिस्सा है. साढ़े चार साल तक उन्होंने बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर कभी कोई सवाल नहीं किया. बिहार सरकार की छवि खराब करने के लिए किया जा रहा उनका कुंठित प्रयास नाकाम गोगा.

केसी त्यागी ने स्पष्ट किया कि बीजेपी,जेडीयू और एलजेपी का गठबंधन मजबूत है इसमें अन्य पार्टियों या किसी बाहरी गठबंधन की जरूरत नहीं है.
Loading...

इनपुट- दिवाकर

ये भी पढ़ें-  पूर्वी चम्पारण के इस स्कूल में जाति के आधार पर बांटे गए हैं सेक्शन
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर