JDU का विपक्ष पर निशाना, अजय आलोक बोले- हमने बचाई 2500 से ज्यादा जिंदगी

अजय आलोक ने अपने ट्वीट में लिखा, चमकी बुखार पर सब सरकार और व्यवस्था को दोष दे रहे हैं. माना कि 150 मासूम नहीं बचे, लेकिन इसी व्यवस्था ने 2500 से ज्यादा जिंदगी बचा ली.

News18 Bihar
Updated: June 21, 2019, 11:36 AM IST
JDU का विपक्ष पर निशाना, अजय आलोक बोले- हमने बचाई 2500 से ज्यादा जिंदगी
JDU नेता अजय आलोक
News18 Bihar
Updated: June 21, 2019, 11:36 AM IST
बिहार में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस से बच्चों की लगातार हो रही मौत का आंकड़ा 153 पहुंच गया है. इसी मसले को लेकर आरजेडी के साथ सभी विरोधी दल नीतीश सरकार पर हमलावर है. आरजेडी सांसद मनोज झा ने इसी मामले को लेकर सदन में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव भी पेश कर दिया. जाहिर है मुद्दा सियासी हो चला है. ऐसे में विपक्ष के हमले के बीच जेडीयू प्रवक्ता पद से इस्तीफा दे चुके अजय आलोक बिहार सरकार के बचाव में उतर आए हैं.

हमने बचाई 2500 जिंदगी
अजय आलोक ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर विरोधियों पर हमला बोला. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, चमकी बुखार पर सब सरकार और व्यवस्था को दोष दे रहे हैं. माना कि 150 मासूम नहीं बचे, लेकिन इसी व्यवस्था ने 2500 से ज्यादा जिंदगी बचा ली. जरूरत है अपनी व्यवस्था को लगातार अपग्रेड करने की, जिसमें कभी शिथिलता आ जाती है. आज उसको दूर करने के लिए पूरी केंद्र और राज्य लग गए हैं.


Loading...

इसी बहाने अजय आलोक ने बेतहाशा जनसंख्या वृद्धि का भी मुद्दा उठा दिया है. उन्होंने अपने अगले ट्वीट में लिखा, व्यवस्था में बेहतरी का कोई अंत नहीं हो सकता जितना करिए कम हैं. जरा सोचिए ये आपदा अगर 15-20 साल पहले आती तो क्या हम तैयार थे? आज हम पूर्णत नहीं तब भी अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं. सवाल ये भी है कि पिछले 15 वर्षों में बिहार की आबादी 2 cr बढ़ी उसका क्या ? कुपोषण मुद्दा है.



बहरहाल अजय आलोक भले ही सरकार के बचाव में उतर आए हैं, लेकिन यह हकीकत है कि जिस स्वास्थ्य व्यवस्था के चाक-चौबंद होने के दावे नीतीश सरकार करती रही है, उसकी तो पोल खुल ही गई है. यह भी एक सच्चाई है कि पिछले 15 वर्षों से बिहार में नीतीश कुमार की ही सरकार है. ऐसे में अगर बच्चों की बेतहाशा मौत हो रही है तो इसकी जिम्मेदारी भी नीतीश कुमार की ही है.

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 21, 2019, 11:30 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...