लाइव टीवी

NRC पर बोले JDU नेता- 'हम पाकिस्तान के अवैध लोगों को भारत में रहने की इजाजत कैसे दे दें?'

News18 Bihar
Updated: November 26, 2019, 12:42 PM IST
NRC पर बोले JDU नेता- 'हम पाकिस्तान के अवैध लोगों को भारत में रहने की इजाजत कैसे दे दें?'
जेडीयू कोटे से मंत्री खुर्शीद आलम ने एनआरसी का समर्थन किया है और एक बार फिर वे सुर्खियों में आ गए हैं. (फाइल फोटो)

NRC के मुद्दे पर खुर्शीद आलम ने कहा, जो भारत के रहने वाले नहीं उनको भारत में कैसे रहने दिया जा सकता है. क्या हम पाकिस्तान के अवैध लोगों को भारत में रहने की इजाजत दे दें.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: November 26, 2019, 12:42 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स यानि NRC लागू करने की मांग बीजेपी (BJP) काफी वक्त से करते आ रही है. एनडीए (NDA) के सहयोगी लोजपा (LJP) का भी साथ मिला है और पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान ने खुलकर NRC का समर्थन किया है और इसे पूरे देश में लागू करने की वकालत की है. हालांकि एनडीए की बड़ी सहयोगी जेडीयू (JDU) ने बिहार में इसे लागू करने पर सहमति नहीं दी है, लेकिन अब जेडीयू नेता और बिहार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खुर्शीद आलम (Minority Welfare Minister Khurshid Alam) ने एनआरसी का समर्थन किया है.

NRC के मुद्दे पर खुर्शीद आलम ने कहा, जो भारत के रहने वाले नहीं उनको भारत में कैसे रहने दिया जा सकता है. क्या हम पाकिस्तान के अवैध लोगों को भारत में रहने की इजाजत दे दें. गौरतलब है कि वर्ष 2017 में खुर्शीद आलम उर्फ फिरोज अहमद विश्वास मत के दौरान विधानसभा में जय श्री राम के नारे लगाकर चर्चा में आए थे. वे अपनी बेबाक राय देने के लिए भी जाने जाते हैं.

बता दें कि इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जब कहा था कि एनआरसी पूरे देश में लागू करेंगे तो जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि सरकार पहले बीजेपी शासित राज्यों से इस मामले पर सहमति बनाए.

प्रशांत किशोर ने ट्वीट में लिखा था, प्रशांत किशोर प्रशांत ने ट्वीट कर कहा था कि 15 से अधिक राज्यों में गैर-बीजेपी मुख्यमंत्री हैं और ये ऐसे राज्य हैं जहां देश की 55 फ़ीसदी से अधिक जनसंख्या है. उन्होंने आगे कहा कि आश्चर्य यह है कि उनमें से कितने लोगों से एनआरसी पर विमर्श किया गया और कितने अपने-अपने राज्यों में इसे लागू करने के लिए तैयार हैं!



इसके बाद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने उनपर पलटवार करते हुए कहा था कि 'सहमति और आम सहमति का क्या सवाल है. NRC से उन्हें निकाला जाएगा जो अवैध हैं. अवैध से किसी को प्रेम क्यों? चाहे सहमति हो या असहमति, अवैध तो अवैध है. उसे देश में रहने का अधिकार नहीं है. भारत कोई धर्मशाला नहीं है.'

जाहिर है इस अहम मसले पर जेडीयू-बीजेपी अक्सर आमने-सामने आती रहती है, लेकिन जेडीयू के खुर्शीद आलम के इस बयान के बाद इसमें नया ट्विस्ट आ गया है.

इनपुट- नीलकमल

ये भी पढ़ें

बिहार: 'अर्जुन के द्रोणाचार्य' की ताजपोशी की इनसाइड स्टोरी, पढ़ें 10 कारण

महागठबंधन में बिखराव! उपेंद्र कुशवाहा के अनशन में शामिल नहीं होंगे तेजस्वी- सूत्र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 12:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर