केसी त्यागी का दावा- विधानसभा चुनाव में विपक्ष को 18 सीटों से आगे नहीं बढ़ने देंगे

केसी त्यागी ने कहा कि आरजेडी ने केंद्र के खिलाफ कम, प्रदेश की सरकार के खिलाफ चुनाव ज्‍यादा लड़ा.

News18 Bihar
Updated: June 1, 2019, 12:54 PM IST
केसी त्यागी का दावा- विधानसभा चुनाव में विपक्ष को 18 सीटों से आगे नहीं बढ़ने देंगे
केसी त्यागी (फाइल फोटो)
News18 Bihar
Updated: June 1, 2019, 12:54 PM IST
जेडीयू के मोदी सरकार में शामिल न होने को लेकर बिहार में सियासी हलचल है. कयास लगाए जा रहे हैं कि पार्टी के अधिकतर नेता बीजेपी के रुख से नाराज हैं और इसका बिहार में आने वाली राजनीति पर असर जरूर पड़ेगा. कांग्रेस ने तो एक तरह से जेडीयू को साथ आने का आमंत्रण तक दे दिया है. हालांकि, जेडीयू के प्रधान महासचिव ने इन तमाम कयासों को खारिज करने की कोशिश की है.

केसी त्यागी ने विपक्ष के बयान और बिहार की सियासी संभावनाओं के सवाल पर कहा कि पूरे चुनाव को आरजेडी ने केंद्र के बजाए राज्‍य की सरकार के खिलाफ लड़ा. विपक्ष विधानसभा सीटों के लिहाज से महज 18 सीटों पर आगे रही है. ऐसे में हमारी कोशिश होगी कि विधानसभा चुनाव में विपक्ष इससे आगे न बढ़ पाए.

जाहिर है केसी त्यागी के बयान ने बिहार में विपक्ष को फिलहाल झटका जरूर दे दिया है. दरअसल, जेडीयू के मोदी कैबिनेट में शामिल नहीं होने के फैसले ने बिहार की राजनीति में नई हलचल पैदा कर दी है. आरजेडी जहां नीतीश कुमार के फैसले पर तंज कस रही है, वहीं कांग्रेस इसमें अपने लिए संभावनाएं तलाशने में जुट गई है.

सियासी हलचल तेज

गुरुवार की शाम चार बजे के बाद से ही कांग्रेस नेताओं के जैसे बयान आ रहे हैं, इससे साफ लग रहा है कि पार्टी नीतीश कुमार को एक तरह से अपने पाले में करने की कोशिश में है. शुक्रवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह ने कहा था कि नीतीश कुमार को भाजपा ने छला है. उन्होंने कहा कि जेडीयू से एक भी मंत्री नहीं होना बिहार का अपमान है. नीतीश कुमार ने एक पद न लेकर बिहार की अस्मिता की लाज रख ली. कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि बिहार में अगर बीजेपी सत्ता में है तो वह नीतीश कुमार के कारण ही है.

इससे पहले गुरुवार को कांग्रेस प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा था कि जेडीयू का मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं होना शपथ ग्रहण में ग्रहण लगने जैसा है. नीतीश कुमार भाजपा के साथ असहज हैं और यह भाजपा का अहंकार भी बता रहा है.

मिश्रा ने आगे कहा कि बीजेपी ने नीतीश कुमार के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया. हमें दुःख है कि नीतीश जी जिस उत्साह से पाला बदलकर बीजेपी के साथ गए थे, बीजेपी ने उनको कम कर के आंका. वहीं आरजेडी ने कहा कि नीतीश कुमार को फैसला लेना चाहिए और एनडीए छोड़ देना चाहिेए.
Loading...

इनपुट - अमितेश

ये भी पढ़ें-
First published: June 1, 2019, 12:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...