आर्टिकल 370ः जेडीयू सांसद बोले- फर्नांडिस की आत्मा को ठेस न पहुंचे इसलिए किया था संसद में विरोध

JDU नेता ने कहा कि जब केंद्र में पहली एनडीए की सरकार बनी थी तब वह बहुमत में नहीं थी. इसलिए एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाया गया था. अब यह स्थिति नहीं है.

News18 Bihar
Updated: August 8, 2019, 2:34 PM IST
आर्टिकल 370ः जेडीयू सांसद बोले- फर्नांडिस की आत्मा को ठेस न पहुंचे इसलिए किया था संसद में विरोध
आरसीपी सिंह ने बिहार में किसी भी कॉमन मिनिमम प्रोग्राम से इनकार किया.
News18 Bihar
Updated: August 8, 2019, 2:34 PM IST
आर्टिकल 370 के निर्णय को लेकर राज्यसभा में विरोध पर उतरी जेडीयू ने अब अचानक ही अपना रुख बदल लिया है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद आर सी पी सिंह ने कहा कि हमारे दिवंगत नेता जॉर्ज फर्नांडिस ने कहा था कि हम किसी भी विवादित प्रस्ताव का साथ नहीं देंगे. ऐसे में हम उनकी आत्मा को नहीं दुखाना चाहते थे. इसी के चलते संसद में हमने आर्टिकल 370 का विरोध किया. वहीं बुधवार से ही बिहार की राजनीति में भी कुछ बदलाव देखने को मिल रहा है. आर्टिकल 370 का विरोध कर रहे सिंह ने अचानक कहा कि अब सभी को नया कानून मानना चाहिए. इसके साथ ही गुरुवार को और ज्यादा बदलाव दिखाते हुए सिंह ने बिहार में किसी भी तरह के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की बात को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसी कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत नहीं बल्कि सिर्फ विकास के मुद्दे पर सरकार चल रही है.

जेडीयू का नरम रुख
सीएम नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले आरसीपी सिंह ने कहा कि जब केंद्र में पहली एनडीए की सरकार बनी, तब वह बहुमत में नहीं थी. इसलिए एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम भी बनाया गया था. अब यह स्थिति नहीं है.उन्होंने कहा कि अब केंद्र में भाजपा का खुद का ही बहुमत है इसलिए वहां कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की आवश्यकता ही नहीं है. इसी के साथ उन्होंने बिहार में भी किसी तरह के कॉमन मिनिमन प्रोग्राम से इनकार करते हुए कहा, यहां भी कोई कॉमन मिनिमम प्रोग्राम नहीं, सिर्फ विकास का मुद्दा है.

नया कानून मानने की नसीहत

आर्टिकल 370 के निष्प्रभावी किए जाने के मुद्दे पर उन्होंने फिर कहा कि जब कोई विवादित मुद्दा हो तो जितना आप विरोध कर सकते हैं करें, लेकिन जब एक बार कानून बन जाए तो उसको स्वीकार करके आगे बढ़िए.

इनपुट- आनंद अमृतराज

ये भी पढ़ें-
Loading...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 1:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...