लाइव टीवी

CAB का विरोध करने वाले प्रशांत किशोर समेत कुछ नेताओं को पार्टी से सस्पेंड कर सकती है JDU!

News18 Bihar
Updated: December 13, 2019, 5:00 PM IST
CAB का विरोध करने वाले प्रशांत किशोर समेत कुछ नेताओं को पार्टी से सस्पेंड कर सकती है JDU!
नीतीश कुमार की पार्टी ने नागरिकता संशोधन बिल का समर्थन किया है. अब पार्टी के भीतर ही इसका विरोध हो रहा है.

सूत्रों की मानें तो कार्रवाई जरूर होगी, लेकिन किस व्यक्ति पर किस तरह की कार्रवाई की जाएगी और इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, इसका आकलन किया जा रहा है.

  • Share this:
पटना. नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) दोनों सदनों में पास हो गया. एनडीए में शामिल जेडीयू ने खुलकर इसका समर्थन किया और पक्ष में वोटिंग भी. जेडीयू के पहले के स्टैंड से अलग सदन में समर्थन में मतदान करने के तरीके ने सबको चौंका दिया. अब इस मुद्दे पर जेडीयू (JDU) के समर्थन के बाद पार्टी के भीतर से ही विरोध के स्वर उभरने लगे हैं. जेडीयू राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर, एमएलसी गुलाम बलियावी, एमएलए मुजाहिद आलम के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं गुलाम गौस और पवन वर्मा ने भी विरोध किया है. पार्टी सूत्रों के अनुसार अगर इन नेताओं के बयान ऐसे ही आते रहे तो इन पर कभी भी करवाई संभव है.

विरोधियों पर हो सकती है कार्रवाई
माना जा रहा है कि पार्टी में बढ़ते विरोध ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को परेशानी में डाल दिया है. पार्टी के अंदर बढ़ते विरोध के सुर ने पार्टी की परेशानी बढ़ा दी है. पार्टी सूत्रों की मानें तो विरोध दर्ज कराने वालों पर पार्टी ने कार्रवाई करने का मन बना लिया है. ऐसा इसलिए है कि सीएम नीतीश कुमार के फैसले के बाद पार्टी में फैसले का विरोध के उभरे स्वर ने सीधे नीतीश कुमार को चुनौती है.

कार्रवाई से पहले आकलन

सूत्रों की मानें तो कार्रवाई जरूर होगी, लेकिन किस व्यक्ति पर किस तरह की कार्रवाई की जाएगी और इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, इसका आकलन किया जा रहा है. माना जा रहा है कुछ का निलंबन हो सकता है. बता दें कि प्रशांत किशोर ने जहां ट्वीट कर खुलकर विरोध दर्ज किया है वही जेडीयू एमएलसी गुलाम रसूल बलियावी ने तो नीतीश कुमार को पत्र लिखकर विरोध कराया है.

नागरिकता संशोधन बिल को जेडीयू के समर्थन के बाद प्रशांत किशोर लगातार विरोध का स्वर मुखर कर रहे हैं.


जेडीयू ने दिए कार्रवाई के संकेत पार्टी के प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि जब पार्टी ने निर्णय ले लिया तो फिर विरोध का कोई सवाल नहीं होना चाहिए. सदन के अंदर सभी ने पार्टी लाइन पर ही मत दिया पर कुछ नेताओ ने विरोध दर्ज कराया है. राजीव रंजन ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ट नारयण ने भी कड़े संदेश दिया है और कहा है कि जो लोग हर बात पर अपनी राय जाहिर कर रहे हैं उनपर पार्टी जरूर सोचेगी.

कांग्रेस ने बताया जदयू को टूट का डर
जदयू के विरोध दर्ज कराने वाले नेताओ पर कार्रवाई होने में देर की बात पर कहा कि जदयू को पार्टी टूट का डर है इसलिए कार्रवाई से डर रही है.इस बिल के समर्थन करने में पार्टी के कई नेताओं में नाराजगी है.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 4:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर