Home /News /bihar /

jdu minister ashok choudhary said about rcp singh even no capacity of gathering crowd of 5 thousand nodaa

जदयू का हमला जारी, अशोक चौधरी बोले- 5 हजार की भीड़ जुटाने की हैसियत भी नहीं आरसीपी सिंह की

जेडीयू प्रवक्ता अरविंद निषाद (बाएं) ने कल ही आरसीपी सिंह (बीच में) को लेकर तल्ख बयान दिया था, आज अशोक चौधरी (दाएं) ने भी हमला बोला.

जेडीयू प्रवक्ता अरविंद निषाद (बाएं) ने कल ही आरसीपी सिंह (बीच में) को लेकर तल्ख बयान दिया था, आज अशोक चौधरी (दाएं) ने भी हमला बोला.

JDU vs RCP Singh: जेडीयू नेताओं ने आरसीपी सिंह पर चौतरफा हमला शुरू कर दिया है. बिहार सरकार में भवन निर्माण मंत्री और नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले अशोक चौधरी ने तो यहां तक कह दिया कि पांच हजार की भीड़ जुटाने की भी हैसियत नहीं आरसीपी सिंह है की तो.

अधिक पढ़ें ...

पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री और जेडीयू नेता आरसीपी सिंह मंत्री पद से इस्तीफा देकर गुरुवार को पटना पहुंचे. लेकिन उनके पद से हटने और पटना की धरती पर कदम रखते ही जेडीयू के नेताओं ने उनपर चौतरफा हमला शुरू कर दिया है. बिहार सरकार में भवन निर्माण मंत्री और नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले अशोक चौधरी ने तो यहां तक कह दिया कि आरसीपी सिंह की तो पांच हजार की भीड़ जुटाने की भी हैसियत नहीं है. पार्टी प्रवक्ता अरविंद निषाद ने कहा कि आरसीपी सिंह को अब तक जो भी प्रतिष्ठा और पद मिले हैं वे नीतीश कुमार की कृपा से मिले हैं. आरसीपी सिंह अहंकारी हो गए हैं.

जेडीयू में राजनीतिक वनवास झेल रहे आरसीपी सिंह के बयान पर तंज कसते हुए अशोक चौधरी ने यहां तक कहा कि बोलने के लिए तो लोग बहुत कुछ बोलते हैं, लेकिन कार्यकर्ता के रूप में किस पार्टी में उन्होंने क्या भूमिका निभाई है, ये सब जानते हैं. अशोक चौधरी ने ये भी कहा कि पार्टी में जो प्रतिष्ठा उन्हें मिली है, वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कृपा से प्राप्त हुई है.

दरअसल जेडीयू में इस बवाल की वजह है आरसीपी सिंह का वह बयान जो उन्होंने पटना पहुंचते ही पत्रकारों के सामने दिया था. आरसीपी सिंह ने कहा था कि मैं अपनी मेहनत और अपने परिश्रम से आगे बढ़ा हूं. यह बयान नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के नेताओं को नागवार गुजर रही है.

हालांकि सत्ता में बैठी जेडीयू के अंदर चल रहे कलह पर विरोधी पार्टी आरजेडी नजर गड़ाई हुई है. तो वहीं आरसीपी सिंह ने यह ऐलान किया है कि वे अब बिहार में रहेंगे और पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे. लेकिन पहले आरसीपी को राज्यसभा में नहीं भेजना, फिर मंत्रिमंडल से हटते ही पार्टी नेताओं का चौतफा हमला साफ तौर पर दिखा रहा है कि जेडीयू का अंदरुनी कलह सतह पर आ गया है और पार्टी दो फाड़ हो गई है. एक धड़ा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और नीतीश कुमार के साथ है, तो दूसरा आरसीपी के साथ.

Tags: Bihar politics, JDU news, RCP Singh

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर