शराब और गुटखाबंदी पर बोले JDU MLA- चेहरा चमकाने के लिए होते हैं ऐसे फैसले

News18 Bihar
Updated: September 3, 2019, 10:53 AM IST
शराब और गुटखाबंदी पर बोले JDU MLA- चेहरा चमकाने के लिए होते हैं ऐसे फैसले
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के विधायक अमरनाथ गामी ने शराबबंदी और गुटखाबंदी खत्म करने की मांग की. (फाइल फोटो)

जेडीयू के विधायक अमरनाथ गामी ने सरकार से शराबबंदी पर पुनर्विचार करने की अपील की है. उन्होंने पान-मसाला और गुटखा को प्रतिबंधित करने के फैसले पर भी नाराजगी जताई है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 3, 2019, 10:53 AM IST
  • Share this:
बिहार में शराबबंदी कानून (Liquor prohibition law) के लागू होने के बाद भी हर दिन शराब की खेप पकड़ी जा रही है. बावजूद इसके चोरी-छिपे शराब की बिक्री पर रोक नहीं लगा पाने में प्रशासनिक विफलता (Administrative failure) जगजाहिर भी होती रही है. इसी वजह से प्रदेश की विरोधी पार्टियों ने कई बार शराब (Liquor) खत्म करने की भी मांग उठाई है. हालांकि, इसके राजनीतिक कारण रहे होंगे, लेकिन इस बार शराबबंदी और गुटखाबंदी कानून लागू करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) की पार्टी जेडीयू के ही एक विधायक (JDU MLA) ने इन प्रतिबंधों को खत्म करने की मांग उठा दी है. जेडीयू विधायक ने सीएम नीतीश कुमार पर आरोप लगाते हुए कहा कि अवैध लेनदेन में बात नहीं बनी तो गुटखा पर प्रतिबंध लगा दिया गया. चेहरा चमकाने को लेकर लिए ऐसे फैसले लिए जा रहे हैं.

JDU विधायक ने खोला मोर्चा
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के दरभंगा से विधायक अमरनाथ गामी ने सरकार से शराबबंदी पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया है. उन्होंने पान-मसाला और गुटखा पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर नाराजगी जतााई है. उन्होंने कहा कि एक तो नौकरी दे नहीं सकते, दूसरा लोगों का रोजगार भी छीन रहे हैं.

Nitish Kumar- Amarnath Gami
जेडीयू एमएलए अमरनाथ गामी ने शराबबंदी और गुटखाबंदी से बेरोजगारी की समस्या बढ़ने की बात कही है.


'स्टेशन पर मांगनी पड़ेगी भीख'
जेडीयू विधायक ने लोगों से प्रदेश सरकार की शराबबंदी और गुटखा एवं पान-मसाला को प्रतिबंधित करने की नीति का विरोध करने का आह्वान किया है. उन्‍होंने कहा कि अगर विरोध नहीं किया तो आने वाले समय में स्टेशन पर भीख मांगनी पड़ेगी.

प्रदेश में शराब और गुटखा बिक्री पर बैन
Loading...

प्रदेश में बिहार मद्यनिषेध और उत्पाद विधेयक, 2016  अधिनियम के तहत 2 अक्टूबर 2016 से ही शराबबंदी है. वहीं, बीते 30 अगस्त से गुटखा एवंं पान-मसाला के उत्पादन और खरीद-बिक्री पर भी बैन लगा दिया गया.

रिपोर्ट- विपिन कुमार दास

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 10:13 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...