'ऑपरेशन LJP' को अंजाम देने वाले ललन सिंह क्यों हैं नीतीश कुमार के खास? जानें पूरी कहानी

लोजपा में हुए विद्रोह और टूट का मास्टर माइंड जेडीयू सांसद ललन सिंह को बताया जाता है (फाइल फोटो)

JDU MP Lalaln Singh: ललन सिंह मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के सबसे करीबी नेताओं में से रहे हैं. बात चाहे कांग्रेस को तोड़ने की हो या फिर राजद को ललन सिंह की भूमिका जेडीयू के ऐसे ऑपरेशन में टीम लीडर के तौर पर होती है.

  • Share this:
पटना. बिहार की सियासत में JDU सांसद ललन सिंह एक बार फिर से चर्चा और सुर्खियों में हैं. रातों-रात चिराग पासवान (Chirag Paswan) की लोजपा को तोड़ने में ललन सिंह (MP Lalaln Singh) की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण मानी जा रही है. पर्दे के पीछे रहकर नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के इशारों पर लोजपा को तोड़ नीतीश कुमार के धुर विरोधी चिराग पासवान को ललन सिंह ने ऐसा झटका दे दिया है, जिसकी चोट चिराग पासवान लम्बे समय तक याद रखेंगे. दरअसल, लोजपा टूटने की पटकथा उसी वक्त तैयार हो गई थी जब विधानसभा चुनाव के वक्त टिकट बंटवारा के समय लोजपा को लेकर संशय के हालात थे.

JDU किसी भी कीमत पर लोजपा को NDA में नहीं रखना चाहता था, लेकिन भाजपा लोजपा को गठबंधन में रखना चाहती थी. तब पहली बार ललन सिंह ने लोजपा को लेकर मोर्चा खोला था और पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि लोजपा के साथ हमारा कोई गठबंधन नहीं है. ये भाजपा को तय करना है कि लोजपा को लेकर वो क्या फैसला करती है. इसके बाद ही लोजपा ने NDA गठबंधन से अलग होकर विधानसभा चुनाव में उतरने का फ़ैसला किया था, लेकिन ललन सिंह के इस बयान के बाद चिराग पासवान ने ललन सिंह के खिलाफ पार्टी में निंदा प्रस्ताव तक लाया था और यहीं से ललन सिंह की नजर पर चिराग पासवान आ गए.

इसलिए हैं नीतीश के खास
आखिरकार लम्बे समय के बाद चिराग पासवान को झटका देते हुए ललन ने न केवल लोजपा को तोड़ा, बल्कि चिराग पासवान को ऐसा झटका दिया जिससे संभलने में चिराग को लम्बा वक़्त लगेगा. दरअसल, ललन सिंह की पृष्ठ भूमि को देखें तो ललन सिंह शुरू से ही बहुत ही खामोशी से कोई भी बड़े राजनीतिक घटना क्रम को अंजाम देने वाले माने जाते रहे हैं. ललन सिंह ने कर्पुरी ठाकुर के साथ रहकर राजनीति की और समाजवादी आंदोलन से जुड़े रहे. उसके बाद नीतीश कुमार के साथ जुड़े और लालू यादव के खिलाफ एक बड़ा मोर्चा बनाने में ललन सिंह की बड़ी भूमिका रही थी.

जो कहते हैं वो करते हैं ललन
ललन सिंह को नजदीक से जानने वाले JDU के एमएलसी नीरज कुमार बताते हैं कि समता पार्टी जब बनी तो उसमे कई नेता जुड़े. वशिष्ठ नारायण सिंह, शिवानंद तिवारी, शकुनी चौधरी, वृषण पटेल जैसे महत्वपूर्ण नेताओं को लालू विरोध की वजह से एक साथ लाने में ललन सिंह की महत्वपूर्ण भूमिका रही थी. चारा घोटाला को अंजाम तक पहुंचाने में भी ललन सिंह की भूमिका को सब जानते हैं और उसी के बाद बिहार के सियासत में नीतीश कुमार तेजी से आगे बढ़े. नीरज कुमार कहते हैं कि ललन सिंह जो कहते हैं सो करते हैं. इसी वजह से दूसरे नेता ललन सिंह पर भरोसा करते हैं.

इन कारणों से दूसरे दल के नेता भी करते हैं भरोसा
जब दूसरे पार्टी के नेता को JDU में लाने की कोशिश ललन सिंह करते हैं और उस वक्त उनसे जो वादा करते हैं उसे पूरा करने का माद्दा भी ललन सिंह रखते हैं. सीएम नीतीश कुमार के करीबी होने के नाते भी बिहार के लोग और राजनेता उनकी बातों पर भरोसा करते हैं. नीतीश कुमार को जब भी परेशानी हुई और नीतीश कुमार ने ललन सिंह को इशारा किया है तो ललन सिंह ने दूसरे पार्टी में सेंध लगाई है.

साइलेंट ऑपरेशन को देते हैं अंजाम
बात चाहे कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी की अगुवाई में चार MLC को तोड़ कांग्रेस को झटका देने का मामला हो या राजद के पांच MLC को तोड़ने का ललन सिंह ने इतनी गम्भीरता और गुपचुप तरीके से इन सारे ऑपरेशन्स को अंजाम दिया कि दूसरे पार्टी के आलाकमान को जानकारी तक नहीं मिल सकी. ताजा मामला लोजपा में का है जहां हुआ भी कुछ ऐसा ही. नीरज कुमार हंसते हुए कहते हैं कि ललन सिंह की खासियत है कि ललन सिंह को जो छेड़ता है उस पर ललन सिंह पलटवार ज़रूर करते है भले ही कुछ वक़्त जरूर लग जाए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.