अपना शहर चुनें

States

बिहार: 'BJP-JDU में सब कुछ ठीक, विधानसभा सत्र से पहले होगा नीतीश मंत्रिमंडल विस्तार'

बिहार के सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद (फाइल फोटो)
बिहार के सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद (फाइल फोटो)

Nitish Cabinet Expansion: नीतीश मंत्रिमंडल में नीतीश कुमार सहित 14 मंत्री हैं और 22 और नए मंत्री बनने की संभावना है. विधानसभा सत्र से पहले नए मंत्रियों को शपथ दिलाने की संभावना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 11:25 AM IST
  • Share this:
पटना. बिहार में नीतीश सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार (Bihar Cabinet Expansion) विधानसभा सत्र से पहले हो जाएगा. यह दावा खुद पार्टी के वरीय नेता और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने किया है. वशिष्ठ नारायण सिंह (JDU Leader Vashisth Narayan Singh) ने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार की अगुवाई वाली सरकार का विस्तार विधानसभा सत्र से पहले हो जाएगा. इसके साथ ही उन्‍होंने यह भी दावा किया कि बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर बीजेपी-जेडीयू (BJP-JDU) और सहयोगी दलों में कोई अड़चन नहीं है.

वशिष्‍ठ नारायण सिंह ने यह भी कहा कि जेडीयू और बीजेपी के बीच किसी भी विषय पर संवादहीनता की स्थिति नहीं है. कभी-कभी कुछ सवालों पर आपस में संवाद के कारण देर होती है और इस कारण तत्काल फैसला नहीं हो पाता है. वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार का विशेषाधिकार सीएम नीतीश कुमार के पास ही है. मालूम हो कि बिहार में नीतीश कुमार की अगुवाई वाली सरकार का विस्तार चिर प्रतिक्षित है. ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि खरमास यानी 14 जनवरी के बाद बिहार में मंत्रिमंडल का विस्तार होगा, लेकिन 15 दिन बीतने के बाद भी अभी तक मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर तस्वीर साफ नहीं हो सकी है.

बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद कई दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए थे. उन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा सहित कई बड़े नेताओं से मुलाकात की थी. राज्यसभा सांसद और बिहार बीजेपी के कद्दावर नेता सुशील कुमार मोदी भी नड्डा से मिल चुके हैं. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जयसवाल और हाल ही में विधानपरिषद से निर्वाचित हुए सैयद शाहनवाज हुसैन भी बीजेपी अध्यक्ष से मिल चुके हैं. पार्टी सूत्रों की मानें तो जातिगत समीकरण को ध्यान में रख कर मंत्रिमंडल विस्तार किया जाएगा. खास बात यह है कि इस बार अगड़ी जातियों के प्रतिनिधत्व को लेकर पार्टी के तमाम बड़े नेताओं में मंथन चल रहा है. सूत्रों की मानें तो पार्टी इस बार कई नए और पुराने चेहरों को मौका देने जा रही है.



इनपुट- शैलेंद्र साहिल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज