लाइव टीवी

पटना छात्र संघ चुनाव: आचार संहिता लागू होने के बावजूद PK ने की थी कैंपस में एंट्री

News18 Bihar
Updated: December 4, 2018, 11:35 AM IST

JDU के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर से छात्रों के सवाल वाजिब हैं क्योंकि प्रशांत किशोर सत्ता धारी दल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं.

  • Share this:
पटना छात्र संघ चुनाव में जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर की एंट्री को लेकर छात्र संगठनों में उबाल है. चुनाव के ठीक पहले पटना विश्वविद्यालय के वीसी से प्रशांत किशोर की मुलाकात को छात्र संगठनों ने बड़ा मुद्दा बना दिया है. सोमवार की रात करीब 4 घंटे तक पटना विश्वविद्यालय रण का मैदान बना रहा है. वीसी से मुलाकात कर जा रहे प्रशांत किशोर पर छात्रों ने पथराव किया. छात्रों का आरोप है कि प्रशांत किशोर छात्र संघ चुनाव को प्रभावित कर रहे हैं.

चुनाव से करीब 30 घंटे पहले पटना विश्वविद्यालय में प्रशांत किशोर के पहुंचने और विश्वविद्यालय के कुलपति से उनकी मुलाकात की ख़बर से छात्र आक्रोशित हो गए. कुलपति रासबिहारी के आवास के बाहर छात्र संघ के छात्रों ने जमकर हंगामा किया.

छात्र संघ चुनाव को लेकर पटना विश्वविद्यालय में आचार संहिता लागू है. ऐसे में कैम्पस में किसी भी राजनीतिक दल के नेता के पहुंचने पर रोक है. छात्र संगठन ABVP ने पहले से ही प्रशांत किशोर पर चुनाव को प्रभावित करने का आरोप लगाया है. (यह भी पढ़ें- PU छात्र संघ चुनाव: ABVP के 6 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ा, बॉन्ड भरवाकर 5 को छोड़ा)

ऐसे में प्रशांत किशोर के VC आवास पहुंचने पर हंगामा शुरू हो गया. ABVP के अलावा वाम दलों के छात्र संगठन के सदस्य भी पहुंच गये और बवाल काटा. प्रशांत किशोर करीब 4 घंटे तक हाउस अरेस्ट रहे. 200 से ज्यादा पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में प्रशांत किशोर को जैसे-तैसे यूनिवर्सिटी से बाहर निकाला गया. लेकिन बाहर निकलते ही उनपर पथराव शुरू हो गया. कड़ी मशक्कत से प्रशांत किशोर को कैम्पस से बाहर निकाला गया. प्रशांत किशोर के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों का आरोप है कि पीके छात्र संघ चुनाव को प्रभावित कर रहे हैं.

JDU के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर से छात्रों के सवाल वाजिब हैं क्योंकि प्रशांत किशोर सत्ता धारी दल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं. हालांकि प्रशांत किशोर की ओर से सफाई में ये कहा जा रहा है कि वे अपने चाचा उदयकांत मिश्रा के डिजास्टर प्रोजेक्ट को लेकर वीसी से मिलने पहुंचे थे. प्रशांत किशोर के चाचा वर्तमान में आपदा प्राधिकरण के सदस्य हैं.

इधर, पीके को लेकर पटना विश्वविद्यालय में हंगामे के बाद पुलिस ने दो दर्जन से ज्यादा छात्रों को गिरफ्तार किया है. सिटी एसपी राजेन्द्र सिंह भील का कहना है कि हंगामा बाहरी लोगों ने किया.


कायदा-कानून सबके लिए बराबर होता है. ऐसे में आचार संहिता लागू होने के बाद प्रशांत किशोर का वीसी से मुलाकात करना कहां तक वाजिब है. छात्रों के साथ-साथ आम आदमी के मन में भी ऐसे सवाल उठ रहे हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें-

सड़क किनारे जा रहे लोगों पर टायर फटने से पलटा ट्रक, 2 की मौत

प्रशांत किशोर की गाड़ी पर पटना यूनिवर्सिटी के छात्रों ने पथराव किया

राजगीर में पुलिसवालों से बोले नीतीश- जब आपलोग फेल होते हैं तो बदनाम सरकार ही होती है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2018, 9:16 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...