लाइव टीवी

नागरिकता कानून पर मतभेद के बीच प्रशांत किशोर ने की इस्‍तीफे की पेशकश, CM नीतीश ने ठुकराया

News18 Bihar
Updated: December 15, 2019, 7:15 AM IST
नागरिकता कानून पर मतभेद के बीच प्रशांत किशोर ने की इस्‍तीफे की पेशकश, CM नीतीश ने ठुकराया
नागरिकता कानून को लेकर जेडीयू उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने पार्टी के स्टैंड पर सवाल उठाया था. (फाइल फोटो)

नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Act) पर जनता दल-युनाइटेड (जदयू) में मचे घमासान के बाद उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने नीतीश कुमार से मुलाकात की. उन्होंने सीएम को अपने इस्तीफे की पेशकश की लेकिन नीतीश कुमार ने उनकी पेशकश ठुकरा दी.

  • Share this:
पटना. नागरिकता कानून पर मतभेद के बीच जेडीयू (JDU) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से मुलाकात की. सूत्रों के अनुसार, सीएम से मुलाकात में उन्होंने इस्तीफा देने की पेशकश की लेकिन नीतीश कुमार ने उनकी इस्तीफे की पेशकश ठुकरा दी.

सीएम से मुलाकात करने के बाद प्रशांत किशोर ने कहा कि हम अपने स्टैंड पर अब भी अडिग हैं. पार्टी में हर कोई क्या बोलता है, हम उसका जवाब नहीं देंगे. नागरिकता कानून (Citizenship Act) और एनआरसी (NRC) अगर एक साथ लागू होता है तो यह बेहद खतरनाक है.

एनआरसी के खिलाफ हैं नीतीश कुमार: प्रशांत किशोर
पीके के नाम से मशहूर जेडीयू नेता प्रशांत किशोर ने कहा, 'मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्टी के दूसरे नेताओं की टिप्पणी की चिंता नहीं करें. सीएम ने कहा कि वह एनआरसी के खिलाफ हैं. नागरिकता कानून को एनआरसी से अगर जोड़ा जाएगा तो गड़बड़ होगा.'

JDU ने दोनों सदनों में नागरिकता संशोधन विधेयक का खुलकर समर्थन किया था
बता दें कि जेडीयू ने नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) का दोनों सदनों में खुलकर समर्थन किया और पक्ष में वोटिंग भी की. जेडीयू के इस स्टैंड का जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर, एमएलसी गुलाम बलियावी, एमएलए मुजाहिद आलम के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं गुलाम गौस और पवन वर्मा ने भी विरोध किया है. पार्टी सूत्रों ने बताया था कि अगर इन नेताओं के बयान ऐसे ही आते रहे तो इन पर कभी भी करवाई संभव है.

जिन्हें पार्टी से जाना है, जाए: आरसीपी सिंहवहीं, शुक्रवार को राज्यसभा में जेडीयू संसदीय दल के नेता और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह ने प्रशांत किशोर को आड़े हाथों लिया था. उन्होंने प्रशांत किशोर को अनुकंपा वाला नेता बताया था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले आरसीपी सिंह ने कहा, 'प्रशांत किशोर की अपनी कोई जमीन नहीं है. प्रशांत किशोर ने पार्टी के लिए आज तक क्या किया? आज तक एक भी सदस्य नहीं बनाया. जिन्हें पार्टी से जाना है, जाए.'

ये भी पढ़ें- JDU सांसद आरसीपी सिंह का बड़ा बयान, प्रशांत किशोर को बताया अनुकंपा वाला नेता

CAB का विरोध करने वाले PK समेत कुछ नेताओं को सस्पेंड कर सकती है JDU!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 4:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर