चुनावी साल में लालू के गांव पर JDU की नजर, जानें क्या है नीतीश कुमार का गेम प्लान?
Gopalganj News in Hindi

चुनावी साल में लालू के गांव पर JDU की नजर, जानें क्या है नीतीश कुमार का गेम प्लान?
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद बहुचर्चित चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे हैं. लालू प्रसाद 15 से ज्यादा बीमारियों से पीड़ित हैं. (फाइल फोटो)

बिहार के चुनावी साल में मुस्लिम समाज को लुभाने के लिए जेडीयू ने गुलाम गौस को एमएलसी बनाया तो राजद के वरिष्ठ मुस्लिम लीडर कमर आलम को राजद से तोड़ जेडीयू में शामिल करवा राजद को झटका दिया है.

  • Share this:
पटना. चुनावी साल में लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) के सबसे मजबूत समीकरण MY में से M समीकरण पर जेडीयू (JDU) की नजरें टिक गई हैं और इस समीकरण में सेंध लगाने के लिए जेडीयू ने लालू यादव के गांव फुलवरिया को चुन लिया है. जेडीयू के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अख़्तर की अगुवाई में पार्टी के कई मुस्लिम नेता और कार्यकर्ता 29 जून को फुलवारिया पहुंच कर वहां के मुस्लिम समाज को बताएंगे कि लालू-राबड़ी राज के 15 साल में मुस्लिम समाज के विकास के लिए क्या कुछ किया गया. वहीं नीतीश राज में 15 साल में मुस्लिम समाज के विकास के क्या क्या कार्य हुए है.

जेडीयू ने नेताओं की फौज उतारी

इस मुहिम की शुरुआत फुलवरिया से ही क्यों, इस सवाल पर जेडीयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अख़्तर कहते हैं कि लालू यादव और उनकी पार्टी ये दावा करती है की उनके राज में मुस्लिम समाज के विकास के लिए बहुत कुछ किया गया था लेकिन सच्चाई सिर्फ ये है की 15 साल में मुस्लिम समाज के विकास की जगह सिर्फ वोट बैंक समझ कर मुस्लिम समाज को ठगा गया है. यही बात बताने के लिए मुस्लिम समाज के बीच लालू यादव के गांव फ़ुलवरिया पहुंचकर नीतीश सरकार के किए गए कार्यों का हवाला देंगे और ये सब एक पम्पलेट के जरिए बांटा भी जाएगा.



निगाहें मुस्लिम वोट बैंक पर
शुरूआत फुलवारिया से करते हुए बिहार के तमाम जिलो में मुस्लिम समाज के बीच जाएंगे ताकि हमारे फ़ुलवरिया के मुस्लिम भाई भी जान जाएं कि उनके रहनुमाई का दावा करने वाले लालू राज का क्या हाल था. दरअसल जेडीयू की पूरी कोशिश है कि लालू यादव के मुस्लिम वोट बैंक को तोड़ा जाए. इसी कड़ी में इस क़वायद को भी देखा जा रहा है. मुस्लिम समाज को लुभाने के लिए जेडीयू ने गुलाम गौस को एमएलसी बनाया तो राजद के वरिष्ठ मुस्लिम लीडर कमर आलम को राजद से तोड़ जेडीयू में शामिल करवा राजद को झटका दिया है.

बीजेपी के साथ रहते हुए काम गिनाने की कोशिश

अब जेडीयू मुस्लिम समुदाय को ये बताने की कोशिश कर रही है की बीजेपी के साथ रहते हुए भी मुस्लिम समाज के विकास के लिए नीतीश कुमार ने कितने काम किए हैं और इसके लिए पूरे बिहार में पम्पलेट बांटने की तैयारी हो रही है जिसमें नीतीश सरकार के मुस्लिम समाज के लिए किए गाए कामों का ज़िक्र होगा. राजद ने जेडीयू के मुस्लिम नेताओ और कार्यकर्ताओ के लालू यादव के गांव फुलवरिया से यात्रा की शुरुआत करने पर पलटवार करते हुए हमला बोला है. राजद विधायक और पूर्व मंत्री विजय प्रकाश कहते हैं कि बिहार की जनता खासकर मुस्लिम समाज ये बहुत अच्छे से जानता है कि बिहार में मुस्लिम समाज के लिए किसने क्या किया है. भाजपा की गोद में बैठकर मुस्लिम समाज की हितों का दावा करने वाली पार्टी और उनके नेता नीतीश कुमार के किसी भी छलावे में मुस्लिम समाज नही आएगा जेडीयू के नेता चाहे कितनी भी यात्रा कर लें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading