Home /News /bihar /

जीतन राम मांझी के बयान से BJP फिर परेशान, बोले- फर्जी सर्टिफिकेट पर चुने गए केंद्रीय मंत्री और 5 सांसद

जीतन राम मांझी के बयान से BJP फिर परेशान, बोले- फर्जी सर्टिफिकेट पर चुने गए केंद्रीय मंत्री और 5 सांसद

बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने पांच सासंदों पर संगीन आरोप लगाए है. (फाइल फोटो)

बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने पांच सासंदों पर संगीन आरोप लगाए है. (फाइल फोटो)

Jitan Ram Manjhi Statement: जीतन राम मांझी ने दिल्ली में आरक्षण ख़त्म करने की वकालत भी की है, लेकिन इसके लिए उन्होंने सबसे पहले सबके लिए समान शिक्षा लागू करने की मांग की. मांझी दिल्ली में पार्टी की बैठक को संबोधित कर रहे थे.

पटना. बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने आरोप लगाया है कि बिहार में पंचायत चुनाव में फर्जी जाति प्रमाण पत्र बनाकर लोग चुनाव लड़ रहे हैं. वो लोग एससी कोटा से आरक्षण का फ़ायदा उठा रहे हैं. मांझी ने दिल्ली में कहा कि इसके लिए अलग से कमीशन बना कर जांच कराई जाए. मांझी ने केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल पर भी फर्ज़ी सर्टिफ़िकेट के आधार पर चुनाव लड़ने का आरोप लगाया जो सहयोगी बीजेपी के लिए परेशानी का कारण बन गया है.

मांझी ने पांच सांसदों का नाम लेकर कहा कि फर्जी सर्टिफिकेट बना कर ये आरक्षण का लाभ ले रहे हैं. ये पांच सांसद हैं, मोहम्मद सादिक अली (फरीदकोट पंजाब से कांग्रेस सांसद), आफरीन अली (TMC सांसद, आरामबाग से) अमरावती महाराष्ट्र से सांसद नवनीत कौर राणा, आगरा से बीजेपी सांसद और केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल, जय सिद्धेश्वर शिवाचार्य स्वामी (सोलापुर महाराष्ट्र से बीजेपी सांसद). जीतन राम मांझी ने कहा इसके लिए अलग से कमीशन बनाकर इन लोगों की जांच कराई जाए.

जाली प्रमाणपत्र पर आरक्षण का लाभ

मांझी ने आरोप लगाया कि 15 से 20 परसेंट लोग ऐसे हैं जो फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर आरक्षण का लाभ लेकर नौकरी भी कर रहे हैं. हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने अपनी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी को संबोधित करते हुए कहा कि हमलोग चाहे कितने भी कार्य कुशल क्यों ना हो उसे आरक्षित कोटे का कहा जाता है. आरक्षित कोटे को लोग दोयम दर्जे का मानते हैं, इसी कलंक को दूर करने के लिए बाबा साहब अंबेडकर ने कहा था कि 10 वर्ष तक आरक्षण दीजिए फिर उसे एक्सटेंड कीजिए लेकिन आज कई बार एक्सटेंशन हो चुका है, आखिर कितनी बार एक्सटेंशन करेंगे?

कॉमन स्कूलिंग सिस्टम की जरूरत

मांझी ने कहा कि आज कॉमन स्कूलिंग सिस्टम की जरूरत है. अगर ऐसा होता है तो राष्ट्रपति का बेटा हो या भंगी की संतान हो सबकी शिक्षा एक समान होगी एक तरह का खानपान होगा एक तरह की ड्रेस होगी एक तरह की शिक्षा होगी, इसलिए कोई ऊंच-नीच नहीं कहलाएगा. ऐसी परिस्थिति में फिर आरक्षण की कोई जरूरत नहीं होगी लेकिन यह लागू होने के पहले आरक्षण हटाने की बात हुई तो गलत होगा कॉमन स्कूलिंग सिस्टम हो जाए और उसके 10 साल बाद आरक्षण को हटाया जा सकता है हम इसके पक्ष में हैंं.

राम से बड़े हैं वाल्मीकि

मांझी ने वाल्मीकि मंदिर जाकर पूजा की. वाल्मीकि जयंती पर पूजा के बाद उन्होंने कहा कि वाल्मीकि जी ने काव्य बनाया, काव्य काल्पनिक होता है. उन्होंने कल्पना के आधार पर देश के सामने अपनी बात रखी है, राम से हजार गुना बड़े हमारे वाल्मीकि जी हैं, जिनकी पूजा हम लोग करते हैं. मांझी ने भगवान राम और रामायण के पात्र को काल्पनिक बताया. तेजस्वी यादव की तरफ से विधानसभा के शताब्दी समारोह में शामिल नहीं होने पर भी मांझी ने हमला बोला. मांझी ने कहा कि अगर किसी को संविधान और संवैधानिक परंपरा में विश्वास ना हो तो वे इसी प्रकार की बात करते हैं. महामहिम किसी पार्टी के नहीं हैं. हो सकता है तेजस्वी जी को लगे कि यह शेड्यूल कास्ट के लोग हैं इसलिए ना जाएं.

Tags: Bihar News, Bihar politics, Caste Reservation, Former CM Jitan Ram Manjhi, Jitan ram Manjhi

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर