होम /न्यूज /बिहार /पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड: जब अदालत में पहुंची 'मृत' महिला गवाह, बोली- हुजूर, मैं जिंदा हूं!

पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड: जब अदालत में पहुंची 'मृत' महिला गवाह, बोली- हुजूर, मैं जिंदा हूं!

पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में बादामी देवी गवाह हैं. सीबीआई ने बीते 24 मई को कोर्ट में बादामी देवी को मृत बताते हुए रिपोर्ट दाखिल की थी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में बादामी देवी गवाह हैं. सीबीआई ने बीते 24 मई को कोर्ट में बादामी देवी को मृत बताते हुए रिपोर्ट दाखिल की थी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Journalist Rajdev Ranjan Murder Case: सीबीआई के द्वारा मृत घोषित की गई महिला गवाह बादामी देवी शुक्रवार को अचानक कोर्ट म ...अधिक पढ़ें

पटना. बिहार के सीवान में हुए पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड (Journalist Rajdev Ranjan Murder Case) में नया मोड़ आ गया है. सीबीआई (CBI) के द्वारा मृत घोषित की गई महिला गवाह बादामी देवी शुक्रवार को अचानक कोर्ट में हाजिर हुई तो वहां मौजूद हर कोई हैरान रह गया. दरअसल जांच एजेंसी ने अदालत में बादामी देवी की मृत्यु की रिपोर्ट दाखिल की थी, मगर वो वहां सशरीर उपस्थित हो गई. यह महिला गवाह खुद मुजफ्फरपुर सिविल कोर्ट में न्यायाधीश के समक्ष (सामने) उपस्थित हुई और उसने जज से कहा कि हुजूर, मैं जिंदा हूं. मुझे सीबीआई ने मृत घोषित कर दिया है. अब कोर्ट ने इस पर सीबीआई से स्पष्टीकरण मांगा है.

पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में बादामी देवी गवाह हैं. सीबीआई ने बीते 24 मई को कोर्ट में बादामी देवी को मृत बताते हुए रिपोर्ट दाखिल की थी. बादामी देवी को मीडिया के माध्यम से इसकी जानकारी हुई तो वो उसने सबको अपने जिंदा होने का सबूत देने का निर्णय लिया. शुक्रवार को बादामी देवी स्वयं कोर्ट में उपस्थित हुईं और कहा कि मैं जिंदा हूं. महिला ने कोर्ट के समक्ष अपना आई कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आई कार्ड भी दिखाया जिसके बाद कोर्ट ने कड़ी आपत्ति जाहिर करते हुए सीबीआई को शोकॉज नोटिस जारी किया है.

बादामी देवी ने बताया कि मेरी उम्र 80 वर्ष से ज्यादा है. जब मैंने सुना कि मुझे मृत घोषित कर दिया गया है, तो मुझे काफी दुख पहुंचा. यह सब आरोपियों की मिलीभगत से हुआ है. वहीं, वकील शरद सिन्हा ने जांच एजेंसी की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह बड़ी लापरवाही है. देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी अगर इस तरीके से काम करेगी तो क्या होगा? सीबीआई ने गवाह से संपर्क तक नहीं किया और महिला को मृत घोषित कर दिया. यही नहीं, सीबीआई के द्वारा कोर्ट में रिपोर्ट भी जमा कर दी गई. इससे इस मामले में साजिश की आशंका है.

बता दें कि 13 मई, 2016 को सीवान के स्टेशन रोड में अखबार के पत्रकार राजदेव रंजन को घात लगा कर बैठे अपराधियों ने गोली मार दी थी. जांच के बाद सीबीआई ने पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन समेत आठ आरोपियों के खिलाफ विशेष कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी.

Tags: Bihar News in hindi, CBI Probe, Crime News, Murder case

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें