Home /News /bihar /

हड़ताल पर गए बिहार के जूनियर डॉक्टर्स, अस्पतालों में चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था

हड़ताल पर गए बिहार के जूनियर डॉक्टर्स, अस्पतालों में चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था

पटना के अस्पताल में हड़ताल करते जूनियर डॉक्टर्स

पटना के अस्पताल में हड़ताल करते जूनियर डॉक्टर्स

Bihar Junior Doctors Strike: जूनियर डॉक्टरों का आरोप है कि पिछले 2013 से इंटर्न को महज 15 हजार स्टाइपेंड मिलता आ रहा है जबकि कई बार इसे बढ़ाने की मांग की जा चुकी है. इंटर्न्स की मांग है कि उनका स्टाइपेंड 15000 से बढ़ाकर 50 हजार किया जाए.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार के जूनियर डॉक्टर यानि एमबीबीएस (MBBS) इंटर्न एकबार फिर स्टाइपेंड बढ़ाने की मांग को लेकर गोलबंद हो गए हैं और आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल (Junior Doctors Strike) पर चले गए हैं. सुबह 10 बजे से पीएमसीएच समेत सभी मेडिकल कॉलेजों में जूनियर डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार कर दिया है जिससे ओपीडी में जहां सैकड़ों मरीजों की परेशानी बढ़ गई है वहीं इमरजेंसी वार्ड में भी सीनियर डॉक्टरों पर दवाब बढ़ गया है.

जूनियर डॉक्टरों का आरोप है कि पिछले 2013 से इंटर्न को महज 15 हजार स्टाइपेंड मिलता आ रहा है जबकि कई बार मांग पत्र देने और आंदोलन के बाद स्वास्थ्य विभाग की ओर से स्टाइपेंड बढ़ोतरी को लेकर आश्वासन भी दिया गया था लेकिन 8 साल बाद भी स्टाइपेंड में बढ़ोतरी नहीं हुई है ऐसे में अब काम कर पाना मुश्किल है. जूनियर डॉक्टरों ने साफ कहा है इस बार आर-पार की लड़ाई होगी जब तक मांगें पूरी नहीं होती है तब तक कोई भी मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर ड्यूटी पर वापस नहीं लौटेंगे.

हड़ताली डॉक्टरों का कहना है कि हमारा आंदोलन जारी रहेगा. हड़ताल पर गए सभी जूनियर डॉक्टर 2016 बैच के हैं जो कि हड़ताल पर जाने के बाद ओपीडी और सभी डिपार्टमेंट में घूम-घूमकर कार्य बाधित करवा रहे हैं. जूनियर डॉक्टरों की मांग को जायज बताते हुए आईएमए ने भी इसका समर्थन कर दिया है और सरकार से अतिशीघ्र मांगों पर विचार इंटर्न के स्टाइपेंड को 15000 से बढ़ाकर 50 हजार करने की मांग की है.

Tags: Bihar News, Junior Doctor, Junior Doctor Strike, PATNA NEWS

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर