पटना: कोरोना संकट के बीच हड़ताल पर गए NMCH के जूनियर डॉक्टर, सरकार के सामने रखी ये मांग

पटना में कोरोना संक्रमण के बीच एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे. (प्रतीकात्मक)

पटना में कोरोना संक्रमण के बीच एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे. (प्रतीकात्मक)

पटना NMCH में जूनियर डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार कर दिया है. सभी जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. परिजनों के हंगामे और तोड़फोड़ से नाराज हैं जूनियर डॉक्टर. जूनियर डॉक्टरों ने 7 दिनों में तीसरी बार कार्य बहिष्कार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2021, 9:21 PM IST
  • Share this:
पटना. पटना NMCH में जूनियर डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार कर दिया है. सभी जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. परिजनों के हंगामे और तोड़फोड़ से नाराज हैं जूनियर डॉक्टर. जूनियर डॉक्टरों ने 7 दिनों में तीसरी बार कार्य बहिष्कार किया है. एनएमसीएच में भर्ती कोविड मरीजों की बढ़ी मुश्किलें बढ़ गई हैं.

बिहार में बेकाबू हो रहे कोरोना के बीच पटना स्थित एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. कोरोना मरीजों के परिजनों की ओर से लगातार हो रही मारपीट और बदसलूकी से नाराज होकर डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार करने का फैसला लिया है. साथ ही सरकार और विभाग के सामने काम पर लौटने की पांच शर्तें रखीं है. इस संबंध में एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के मेंबर डॉक्टर रामचंद्र ने बताया कि मांग पूरी होने तक जूनियर डॉक्टर काम का बहिष्कार करेंगे.

Youtube Video


150 से अधिक बेड संभालने की नहीं है क्षमता
उन्होंने कहा, " संसाधनों की कमी और मरीजों के परिजनों का हंगामा एक दूसरे से संबंधित हैं. संसाधनों और मैन पावर की कमी की वजह से इलाज में दिक्कत आती है, मरीजों की मौत होती है, जिसके बाद मृतक के परिजन डॉक्टरों के साथ बदसलूकी करते हैं. ऐसे में जब तक कमियों को पूरा नहीं किया जाएगा, ऐसी घटनाएं होती रहेंगी. मैन पावर की कमी और डॉक्टरों में तेजी फैल रहे संक्रमण की स्थिति में हम 150 से अधिक बेड संभालने की क्षमता नहीं रखते हैं."

इन पांच बिंदुओं पर रखी मांग 





  • एमबीबीएस एग्जाम पोस्टपोन होने की वजह से 150 इन्टर्नस नहीं आए हैं, जिससे मैनपावर की कमी हो गई है, ऐसे में 150 नॉन एकेडमिक जेआर को एनएमसीएच में तैनात किया जाए. साथ ही पीएमसीएच के सीनियर रेजिडेंट और अस्सिटेंट प्रोफेसर, मेडिसिन और एनेस्थीसिया एक्सपर्ट्स को एनएमसीएच में प्रतिनियुक्त किया जाए.


  • दूसरे सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए बेड बढ़ाई जाए.


  • वार्ड के अंदर मरीजों के अटेंडेंट्स की एंट्री पर प्रतिबंध लगाया जाए. साथ ही अतिरिक्त वार्ड बॉय नियुक्त किए जाए, ताकि मरीजों का ख्याल रखा जा सके. नर्सेज की भी संख्या बढ़ाई जाए.


  • अस्पताल परिसर के अंदर पैरामिलिट्री फ़ोर्स की प्रतिनियुक्त की जाए.


  • बुधवार की सुबह जिन लोगों ने डॉक्टरों के साथ बदसलूकी की उनके खिलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाए.



अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज