बिहार: 'कलकतिया बीज' ने पटना के किसानों को ऐसा ठगा कि हजारों बीघा प्याज की फसल हुई खराब

खराब बीज की वजह से पटना के किसानों की फसल खराब हो गई.

खराब बीज की वजह से पटना के किसानों की फसल खराब हो गई.

Bihar News: प्याज की खेती के लिए 'कलकतिया बीज' के नाम से मशहूर पश्चिम बंगाल के बीज की मांग पटना के किसानों के बीच तेजी से बढ़ी है. लाल चटक रंग और ठोस प्याज के खराब होने की संम्भावना बहुत कम होती है. पर इस बार फसल खराब हो गई.

  • Share this:
पटना. एक तरफ जहां पूरा बिहार कोरोना त्रासदी की मार झेल रहा है वही पटना के प्याज उपजाने वाले किसानों पर दोहरी मार पड़ी है. पटना के जल्ला में प्याज की खेती करने वाले किसान बंगाल के बीज के ठगी का शिकार हुए हैं. अच्छी उपज का झांसा देकर बंगाल के व्यापारियों ने पटना के किसानों को ऐसी बीज दी जिससे फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई. अब किसानों के लिए कोरोना के साथ अपने साथ हुए इस ठगी के झटके को संभाल पाना मुश्किल हो रहा है.

कलकतिया बीज की पिछले वर्षों में बढ़ी है मांग

बता दें कि प्याज की खेती के लिए 'कलकतिया बीज' के नाम से मशहूर पश्चिम बंगाल के बीज की मांग पटना के किसानों के बीच तेजी से बढ़ी है. लाल चटक रंग और ठोस प्याज जिसके खराब होने की संम्भावना बहुत कम होती है. पिछले कुछ वर्षों में पटना के किसान कोलकतिया बीज के जरिये अच्छा मुनाफा कमाते रहे हैं. पर इस साल बंगाल के व्यापारियों ने अच्छी क्वालिटी का बीज कहकर ऐसी बीज दी जिससे पूरी फसल ही चौपट हो गई.

किसानों के सैकड़ों बीघा जमीन की फसल हुई बर्बाद
पटना के किसानों द्वारा हजारों कट्ठा जमीन में लगाई फसल पूरी तरह चौपट हो गई है. पटना के जल्ला इलाका, वार्ड नंम्बर 61, 68 69 और 70 में हजारों की संख्या में किसानों ने बंगाल से मंगाकर इस बीज को लगाया था. सबलपुर, महुली, फतेहपुर, सोनमा क्षेत्र के किसानों ने भी हजारो बीघा में इस बीज को लगाया था.

600 रु की जगह 100 रु मिल रही कीमत

किसानों का कहना है कि नकली कोलकतिया बीज के लगाए जाने के बाद फसल ऐसी हुई है कि उसका लागत मूल्य भी निकालना मुश्किल हो गया है. पहले कोलकतिया बीज से एक कट्ठे में 10 से 12 मन प्याज की उपज होती थी पर इस नकली बीज के कारण 2 से 3 मन ही एक कट्ठे में उपज हो पा रही है. एक मन यानी 40 किलो की कीमत जहां थोक बाजार में किसानों को 600 रु तक मिलते थे, वहीं इस प्याज की कीमत 200 रु भी मुश्किल से मिल रहे हैं.



गौरतलब है कि प्याज उपजाने वाले किसान बटाइदारी पर खेत लेकर फसल उपजाते है. बंगाल के नकली बीज के शिकार होने के बाद पटटे की कीमत निकलना भी मुश्किल हो गया है. अब यहां के किसान अपनी किस्मत को कोसते हुए सरकार से मदद की आस में हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज