• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • बिहार: बेगूसराय छोड़ क्यों 'गायब' हो गए कन्हैया कुमार? वोटों के गणित में छिपा है जवाब

बिहार: बेगूसराय छोड़ क्यों 'गायब' हो गए कन्हैया कुमार? वोटों के गणित में छिपा है जवाब

कन्हैया कुमार (फाइल फोटो)

कन्हैया कुमार (फाइल फोटो)

वामपंथ के गढ़ में कन्हैया कुमार को मिले मतों का विश्लेषण किया जाए तो सीताराम येचुरी, जावेद अख्तर, प्रकाश राज, स्वरा भास्कर, शबाना आजमी जैसे दिग्गजों का आना भी बेकार ही साबित हुआ.

  • Share this:
इस बार के लोकसभा चुनाव में बिहार के सबसे चर्चित संसदीय सीटों में बेगूसराय भी एक थी. जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और बीजेपी के फायरब्रांड नेता गिरिराज सिंह के चुनावी मैदान में आने से बेगूसराय सीट राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मीडिया की सुर्खियों में रही. कन्हैया कुमार को सीपीआई और उससे जुड़े संगठनों ने इस तरह से प्रोजेक्ट किया कि वह उनके चेहरे के बूते एक बार फिर पुनर्जीवित हो सकती है. इसके लिए तमाम तरह के उपाय किए गए. बेगूसराय में बॉलीवुड सितारों से प्रचार करवाया गया. नुक्कड़ नाटकों का दौर भी चला. ऐसा लगने लगा कि कन्हैया के आने से वामपंथ की धारा को बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए संजीवनी मिल गई. लेकिन, चुनाव नतीजों के बाद जो आंकड़े सामने आए हैं, वह वामपंथियों के लिए एक बड़ा सेटबैक है.

वामपंथ के गढ़ में कन्हैया को मिले मतों का विश्लेषण किया जाए तो सीताराम येचुरी, जावेद अख्तर, प्रकाश राज, स्वरा भास्कर, शबाना आजमी जैसे दिग्गजों का आना भी बेकार साबित हुआ. बीजेपी के गिरिराज सिंह ने कन्हैया कुमार को 4 लाख 22 हजार 274 मतों के भारी अंतर से मात दी और उन्हें कुल 57 प्रतिशत मत मिले.

मीडिया के शोर के बावजूद मिली मात
मीडिया के शोर के बावजूद चुनावी मैदान में कन्हैया कुमार की हालत इतनी पतली रही कि उनको अपने घर और अपने बूथ पर भी जीतने लायक वोट नहीं मिले. खुद कन्हैया कुमार को अपने घर बीहट के मोहल्ले पर बने बूथों पर भी एनडीए के प्रत्याशी गिरिराज सिंह से काफी कम वोट मिले. बीहट के वार्ड क्रमांक 15 के बूथ पर कन्हैया कुमार को 703 तो गिरिराज सिंह को 807 वोट मिले.

ये भी पढ़ें- केसी त्यागी का तंज- तंग दिल वाले हिंदू हैं गिरिराज सिंह, हम कर रहे पीएम मोदी का अनुकरण

सबसे हैरान करने वाला तथ्‍य यह है कि तेघड़ा विधानसभा क्षेत्र में पड़ने वाले कन्हैया के गांव मसदनपुर बीहट के बूथ नम्बर 220 (कन्हैया का होम बूथ) पर भी वह महज 61 वोट से ही लीड ले पाए. यहां कन्हैया को 484 और गिरिराज सिंह को 423, जबकि तनवीर हसन को महज एक वोट मिला.

सीपीआई के बड़े नेताओं के क्षेत्रों में मिली हार
सीपीआई के जिले के सबसे बड़े नेता शत्रुघ्न प्रसाद सिंह अपने गांव सफापुर के बूथ संख्या 260 पर कन्हैया कुमार को मात्र 95 वोट ही दिलवा पाए, जबकि यहां गिरिराज सिंह को 610 वोट प्राप्‍त हुए. वहीं, तनवीर हसन को 93 वोट मिले.

ये भी पढ़ें- गिरिराज के इफ्तार वाले बयान पर गरमाई सियासत, JDU ने बताया मानसिक रूप से विक्षिप्त

इसी तरह मटिहानी से 15 वर्ष तक विधायक रहे राजेन्द्र राजन (सिंह) के गांव गोदरगामा में बूथ संख्या 253 पर कन्हैया को 181 वोट मिले, जबकि गिरिराज सिंह को यहां 617 वोट मिले. यहां तनवीर हसन को 62 वोट मिले.

वामपंथ के गढ़ में भी मिली करारी शिकस्त
कन्हैया कुमार के लिए प्रचार में जुटे सीपीआई के राज्य परिषद सदस्य अनिल कुमार अंजान सिहमा स्थित अपने ही बूथ पर कन्हैया के लिए वोट नहीं डलवा पाए. उनके बूथ संख्या 137 पर सीपीआई को 56, एनडीए को 304 और महागठबंधन को मात्र 20 वोट मिले.

ये भी पढ़ें- बिहार में शिक्षकों की नियुक्ति 14 जून से, देखें पूरा शिड्यूल

सीपीएम नेता अंजनी सिंह महेन्द्रपुर गांव के अपने बूथ संख्या 121 पर 125 वोट ही कन्हैया को दिलवा पाए. जबकि यहां एनडीए को 653 वोट मिला.  वहीं महागठबंधन को मात्र 55 वोट ही मिल सके. सीपीआई के अवधेश राय एक मात्र ऐसे नेता रहे जिनके क्षेत्र में सीपीआई यानी कन्हैया कुमार को सबसे ज्यादा 335 वोट मिले.

हर विधानसभा में काफी पीछे रहे कन्हैया कुमार
विधानसभावार आंकड़ों पर नजर डालें तो बछवाड़ा में गिरिराज सिंह को 93, 423,  कन्हैया को 46, 962, तनवीर हसन को 31, 819 वोट मिले.  तेघड़ा में गिरिराज सिंह को 1, 00, 335, कन्हैया को 54, 517, तनवीर हसन को 13, 650, मटिहानी से  गिरिराज सिंह को 1, 21, 959, कन्हैया को 45, 817 तनवीर हसन को 23, 811 मत मिले.

ये भी पढ़ें- बिहार: जनता की नब्ज टटोल रहे CM नीतीश कुमार!

वहीं, बखरी में गिरिराज सिंह को 90, 552, कन्हैया को 34, 207,  तनवीर हसन को 29, 319 मत मिले. जबकि बेगूसराय में गिरिराज सिंह को 1, 22, 504, कन्हैया को 42, 240 और तनवीर हसन को 16, 908 वोट मिले. साहेबपुर कमाल से गिरिराज सिंह को 75, 324, कन्हैया को 17, 832, तनवीर हसन को 49, 858 वोट मिवले.

चेरिया बरियारपुर से गिरिराज सिंह को 83, 480, कन्हैया को 26, 288, तनवीर हसन को 31, 435 मत मिले. जबकि पोस्टल बैलेट में भी कन्हैया सिंह काफी पीछे रहे. इसमें गिरिराज सिंह को 4616, कन्हैया को  2059 और तनवीर हसन को 1433 मत मिले. चुनाव में गिरिराज सिंह को कुल 57 प्रतिशत मत मिले यानि कन्हैया और तनवीर हसन मिलकर भी गिरिराज सिंह को हरा नहीं पाते.

ये भी पढ़ें-

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज