Home /News /bihar /

kc tyagi anil hegde afak karim bhola sharma may be candidate of jdu for vacant seat of rajya sabha after death of king mahendra bramk

किसे मिलेगी किंग महेंद्र के निधन से खाली सीट, किस नेता को राज्यसभा में भेजने की तैयारी में JDU?

राज्यसभा में किंग महेंद्र के निधन से खाली हुई सीट पर जेडीयू अब किस नेता को भेजेगा, इसको लेकर कयास लगने शुरू हो गए हैं.

राज्यसभा में किंग महेंद्र के निधन से खाली हुई सीट पर जेडीयू अब किस नेता को भेजेगा, इसको लेकर कयास लगने शुरू हो गए हैं.

JDU Candidate For Rajya Sabha Elections: किंग महेंद्र भूमिहार समाज से आते थे, ऐसे में उनके निधन के बाद पार्टी जातिगत समीकरण का भी ख्याल रखना चाह रही है. फिलहाल जेडीयू कोटे से राज्यसभा जाने वाले संभावितों की सूची में चार से पांच नाम चर्चा में हैं, जिनमें संगठन में अहम् जिम्मेदारी निभा रहे कुछ बड़े चेहरे भी शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...

पटना. जेडीयू के राज्यसभा सांसद और मशहूर उद्योगपति किंग महेंद्र के आकस्मिक निधन के बाद खाली हुई सीट पर पार्टी का उम्मीदवार कौन होगा, इसे लेकर जनता दल यूनाइटेड का शीर्ष नेतृत्व मंथन कर रहा है. जेडीयू के शीर्ष नेतृत्व के लिए फैसला करना आसान नहीं होगा, क्योंकि इस सीट के कई दावेदार हैं और सभी की दावेदारी काफी मजबूत है. चूंकि किंग महेंद्र भूमिहार जाति से ताल्लुक रखते थे, ऐसे में पार्टी जातिगत फैक्टर का भी ख्याल रखना चाहती है. आइए जानते हैं उन नामों के बारे में, जो इस सीट के दावेदार और क्यों इन सभी की दावेदारी राज्यसभा के लिए मजबूत है.

केसी त्यागीः दिल्ली की सियासत में जेडीयू के बड़े चेहरे के तौर पर केसी त्यागी की पहचान मानी जाती है. वो पार्टी की राय को मुखरता से राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाते हैं. केसी त्यागी इसके पहले 2013 में उपचुनाव में JDU के उम्मीदवार के तौर पर राज्यसभा जा चुके हैं. त्यागी भूमिहार जाति से आते हैं और ये जाति इस वक़्त बिहार की सियासत में काफी अहम् हो गई है. भूमिहारों पर पर JDU की नजर भी है, इस वजह से भी उनकी दावेदारी प्रबल मानी जा रही है.
अनिल हेगड़ेः जेडीयू के राष्ट्रीय चुनाव अधिकारी अनिल हेगड़े की पहचान शांति से काम करने वाले नेता के तौर पर मानी जाती है जो बिना लाइम लाइट में आए पार्टी के लिए काम करने के लिए जाने जाते हैं. वो पिछले कई वर्षों से संगठन के साथ-साथ चुनावों की निगरानी में लगे हुए हैं. हेगड़े को नीतीश कुमार का करीबी भी माना जाता है और सालों से काम करने की वजह से उन्हें नीतीश कुमार इनाम भी दे सकते हैं. हेगड़े मूल रूप से कर्नाटक के रहने वाले हैं.
आफाक अहमदः JDU के राष्ट्रीय महासचिव आफाक अहमद का नाम भी इस रेस में आगे चल रहा है. उनकी दावेदारी इस वजह से मजबूत मानी जा रही है, क्योंकि हाल में ही अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में हुए विधानसभा चुनाव में JDU को अच्छी सफलता मिली है. इस सफलता में आफाक की भूमिका भी महत्वपूर्ण मानी जाती है. वो सालों से जेडीयू को मजबूत बनाने में अपना योगदान देते आए हैं. उन्हें राज्यसभा भेज JDU मुस्लिम समुदाय को बड़ा मैसेज देने की कोशिश भी कर सकता है.
भोला शर्माः एक मजबूत चर्चा स्वर्गीय किंग महेंद्र के भाई भोला शर्मा की भी हो रही है. सूत्र बताते हैं कि अगर भोला शर्मा ने दावेदारी ठोंकी तो JDU में उनकी दावेदारी सबसे मजबूत हो सकती है और JDU के लिए उनकी दावेदारी नकारना आसान भी नहीं होगा. खबर है कि भोला शर्मा भी इस वक़्त पटना में ही हैं, लेकिन अभी तक इनकी दावेदारी सामने नहीं आई है, जिस पर JDU की निगाहें भी टिकी हुई हैं. बहरहाल राज्यसभा के लिए JDU का उम्मीदवार कौन होगा, इसका पत्ता कभी भी खुल सकता है और फैसला अंतिम तौर पर नीतीश कुमार को ही लेना है.

Tags: Bihar News, Bihar politics, JDU news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर