Home /News /bihar /

छठ महापर्वः आज खरना है, शुरू होगा 36 घंटे का निर्जला उपवास

छठ महापर्वः आज खरना है, शुरू होगा 36 घंटे का निर्जला उपवास

‘खरना’ का मतलब है शुद्धिकरण. व्रती ‘नहाय-खाय’ के दिन एक समय का भोजन करके अपने शरीर और मन को शुद्ध करना आरंभ करते हैं. इसकी पूर्णता अगले दिन होती है. इसलिए इसे ‘खरना’ कहते हैं.

‘खरना’ का मतलब है शुद्धिकरण. व्रती ‘नहाय-खाय’ के दिन एक समय का भोजन करके अपने शरीर और मन को शुद्ध करना आरंभ करते हैं. इसकी पूर्णता अगले दिन होती है. इसलिए इसे ‘खरना’ कहते हैं.

‘खरना’ का मतलब है शुद्धिकरण. व्रती ‘नहाय-खाय’ के दिन एक समय का भोजन करके अपने शरीर और मन को शुद्ध करना आरंभ करते हैं. इसकी पूर्णता अगले दिन होती है. इसलिए इसे ‘खरना’ कहते हैं.

    रविवार को ‘नहाय-खाय’ के साथ छठ महापर्व की शुरुआत हो गई. चार दिवसीय महापर्व के दूसरे दिन यानी आज ‘खरना’ है. सूर्योपासना के इस लोकपर्व में भगवान सूर्यदेव को भोग लगाया जाता है. इसके बाद से ही 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू होता है. पटना में गंगा घाटों पर भारी भीड़ है. पटना में छठव्रती गंगा जल लेकर अपने घर जा रहे हैं. गंगा जल से ही आज 'खरना' का प्रसाद बनाने की मान्यता है.

    ये भी पढ़ें- VIDEO: सात समंदर पार अमेरिकी लड़की ने गाया छठ का यह गीत, वीडियो वायरल

    ‘खरना’ का मतलब है शुद्धिकरण. व्रती ‘नहाय-खाय’ के दिन एक समय का भोजन करके अपने शरीर और मन को शुद्ध करना आरंभ करते हैं. इसकी पूर्णता अगले दिन होती है. इसलिए इसे ‘खरना’ कहते हैं.

    इस दिन व्रती शुद्ध अंत:करण से कुलदेवता और सूर्य एवं छठ मैया की पूजा करके गुड़ से बनी खीर का नैवेद्य अर्पित करते हैं. सुबह से ही महिलाएं मिट्टी से तैयार किए गए चूल्हों पर ठेकुआ-पकवान जैसे प्रसाद बनाती हैं. इसके बाद ‘खरना’ का प्रसाद बनाने की तैयारी शुरू होती है.

    ये भी पढ़ें - Chhath 2018 : घर वालों के साथ घर पर ठेकुआ बनाती दिखीं आम्रपाली दुबे, VIDEO वायरल

    'खरना' के प्रसाद में चावल, चने की दाल, घी चुपड़ी रोटी, गन्ने के रस या गुड़ से बनी रसिया आदि बनाए जा रहे हैं. इसके बाद भगवान सूर्य को सभी प्रसाद का भोग लगाया जाता है. फिर सभी लोग प्रसाद को सामूहिक रूप से ग्रहण करते हैं.

    गोधूली बेला के वक्त भगवान सूर्य के प्रतिरूप को लकड़ी की पटिया पर स्थापित करने के बाद पारंपरिक रूप से पूजा की जाएगी. खरना के बाद व्रती दो दिनों तक साधना में होते हैं जिसमें उन्हें पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए जमीन पर शयन करना होता है.

    मंगलवार की शाम को भगवान भास्कर को पहला अर्घ्य दिया जाएगा. जलाशयों और तालाबों के साथ विभिन्न नदी घाटों पर अर्घ्य की तैयारियां पूरी की जा रहीं हैं. बुधवार को सुबह का अर्घ्य दिया जाएगा.

    ये भी पढ़ें - अररिया: गंदगी के बीच होगी छठ पूजा, ऐतिहासिक सुल्तान पोखर की नहीं हुई सफाई

    Tags: Bihar News, Chhath Puja, Ganga, PATNA NEWS

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर