• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • भारत बंद में सीन से 'गायब' रहे तेजस्वी तो JDU नेता ने किया कटाक्ष, कहा- बहरूपिये ने फिर अपना रंग दिखाया

भारत बंद में सीन से 'गायब' रहे तेजस्वी तो JDU नेता ने किया कटाक्ष, कहा- बहरूपिये ने फिर अपना रंग दिखाया

तेजस्वी यादव भारत बंद के दिन कहीं नजर नहीं आए. (फाइल फोटो)

तेजस्वी यादव भारत बंद के दिन कहीं नजर नहीं आए. (फाइल फोटो)

हैरत की बात यह रही कि बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (RJD leader Tejaswi Yadav) भारत बंद में कहीं भी नहीं दिखे जबकि दो दिन पहले उन्होंने कहा था कि किसानों के लिए अगर सरकार मुझे फांसी पर लटका देगी तो मंजूर होगा.

  • Share this:
    पटना. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए नये कृषि कानून (Farmers Bill) के विरोध में कई किसान संगठनों के साथ ही विभिन्न राजनीतिक दलों के लोग भी सड़कों पर उतरे. बिहार में तो निर्धारित समय 11 बजे से पहले कई स्थानों पर सुबह छह बजे से ही विरोध-प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू हो गया था. सड़क जाम करने से लेकर रेल रोको अभियान तक चलाया गया. महागठबंधन  (Maha gathbandhan) में शामिल भाकपा माले, सीपीआई, सीपीएम के अलावा कई जगहों पर कांग्रेस के कार्यकर्ता भी विरोध करते नजर आए. यहां तक की जन अधिकार पार्टी के वर्कर भी काफी संख्या में प्रोटेस्ट में हिस्सा लिया. राजद के कार्यकर्ता (RJD workers) भी विभिन्न जिलों में भारत बंद को सफल करने के लिए सड़कों पर उतरे, पर वे नजर नहीं आए जिनको सभी की नजरें तलाश कर रही थीं.

    दरअसल हैरत की बात यह रही कि बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भारत बंद में कहीं भी नहीं दिखे जबकि दो दिन पहले उन्होंने कहा था कि किसानों के लिए अगर सरकार मुझे फांसी पर लटका देगी तो मंजूर होगा. भारत बंद से गायब रहने पर अब जेडीयू ने तेजस्वी पर करारा हमला बोला है. जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि  राजनीति के बहरूपिया तेजस्वी यादव ने एक बार फिर अपना रंग दिखाया है. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने संकल्प लिया. मचिया पर बैठकर अपने बुजुर्ग नेता को अपमानित किया और आंदोलन के दिन फरार हो गया.

    नीरज रुमार ने कविताई अंदाज में भी कटाक्ष किया और कहा, लालू के दागी लाल ने कर दिया कमाल, छोड़ा मैदान और हो गए अंतर्धान. हम करेंगे मस्ती, तुम करो ड्यूटी. जनता से हमें क्या लेना देना हम तो चलेंगे सिर्फ भ्रष्टाचार, परिवारवाद और वंशवाद की राजनीतिक चाल.

    वहीं, राजद ने  नेता विरोधी दल तेजस्वी यादव बचाव करते हुए कहा कि उनके निर्देश पर ही राजद के कार्यकर्ता और पदाधिकारीगण भारत बंद को सफल बनाने में लगे हुए थे. हमारा मकसद था गांव को बंद करवाना. तेजस्वी यादव की कामयाबी रही कि ऐतिहासिक बंद रहा. तेजस्वी यादव निजी कारणों से न हीं आ पाए, लेकिन राजद के एक-एक लोग तेजस्वी यादव के सिपाही बनकर खड़े थे.

    कांग्रेस नेता प्रवीण कुशवाहा ने भी कहा कि यह खामी ढूंढना ठीक नहीं. किसानों के लिए पूरा बिहार सड़कों पर उतर आया. जिस तरह से बंद था आप समझ सकते हैं कि लोग किसानों के लिए किस तरह से आंदोलन में साथ देने को तैयार हैं. नेता प्रतिपक्ष गायब हो गए, यह शब्द ही गलत है. वह कहीं और रहे होंगे, लेकिन उनके साथ तमाम लोग लगे हुए थे. कार्यकर्ता लगे हुए थे.

    गौरतलब है कि एक दिन पहले की तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा था, 'किसान के बच्चे ही सीमा पर देश की रक्षा करते हैं और किसान के अन्न से ही देश का पेट भरता है. अगर किसान के बेटे जवान और किसान स्वयं झुक गए तो देश झुक जाएगा. हम हर संघर्ष में दृढ़ता के साथ अन्नदाताओं संग कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं. धनदाताओं के पिछलग्गुओं बिना अन्न क्या धन खाओगे?

    बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने अपने कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया था कि वह 8 दिसंबर को भारत बंद के दौरान शांतिपूर्ण तरीके से सड़कों पर उतरें और किसान विरोधी कानून का विरोध करें. आरजेडी सूत्रों का कहना है कि मंगलवार को राजद कार्यकर्ता शहर से लेकर गांव तक शांतिपूर्ण तरीके से मार्च करेंगे. बहरहाल आठ दिसंबर का पूरा दिन बीत गया, लेकिन तेजस्वी यादव कहीं नजर नहीं आए. ऐसे में हर कोई यही पूछ रहा है कि तेजस्वी आखिर फिर कहां गायब हो गए?

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज