Kisan Rail Roko Andolan: पटना में हो सकता था अमृतसर जैसा हादसा, रेलवे ट्रैक पर बैठे किसानों से हुई ये बड़ी चूक

पटना में रेल रोको आंदोलन के दौरान बड़ा हादसा हो सकता था.

Patna News. रेल रोको आंदोलन (Rail Roko Andolan) के दौरान बिहार की राजधानी पटना में बड़ा हदसा हो सकता है. पुलिस ने समय रहते ट्रैक पर बैठे किसानों को हटाया.

  • Share this:
पटना. कृषि सुधार कानून के विरोध में गुरुवार को देशभर के तमाम किसान संगठनों ने रेल चक्का जाम (Kisan Rail Roko Andolan) करने का ऐलान किया. किसानों ने दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक रेल ट्रेक पर उतरने की रणनीतिक बनाई. इसी कड़ी में  पप्पू यादव (Pappu Yadav) की पार्टी जाप (जनाधिकार पार्टी) के कार्यकर्ता पटना के सचिवालय हाल्ट पर सुबह 11:00 बजे से रेलवे ट्रैक पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे थे. इस प्रदर्शन की अगुवाई जाप के नेता प्रेमचंद सिंह कर रहे थे. जाप कार्यकर्ता तकरीबन सुबह 11:20 के करीब अप ट्रैक पर कार्यकर्ता लेटकर,बैठकर और खड़े होकर प्रदर्शन कर रहे थे.

तभी ट्रैक पर सामने से ट्रेन की आने की सूचना हुई और ट्रेन सामने से आते हुए दिखने लगी. लिहाजा मौके पर तैनात पुलिसकर्मी प्रदर्शन करने वालों को हटा रही थी. तभी दूसरी ओर से डाउन लाइन दूसरी ट्रैक पर ट्रेन की आने की सूचना हो गयी और सामने से आने वाली ट्रेन भी दिखने लगी. इसके बाद अफरातफरी हो गई. इसमें अगर थोड़ी भी चुकी हो जाती तो आज पटना के सचिवालय हाल्ट का नज़ारा बिल्कुल बदल जाता.

तैनात पुलिस कर्मियों ने बचाई जान

रेल रोको कार्यक्रम और किसानों के प्रदर्शन के मद्देनज़र सचिवालय हाल्ट पर सुबह से सैकड़ों की संख्या में पुलिस की तैनाती थी. इसमें पटना जीआरपी, आरपीएफ और पास के गर्दनीबाग थाने के थानेदार भी मौजूद थे. जब प्रदर्शन शुरू हुआ तो पुलिस ने पहले जाप के कार्यकर्ताओं को रेलवे ट्रैक पर उतरने से रोकने की कोशिस की. लेकिन जब ये प्रदर्शनकारी ट्रैक पर उतर गए तो इन प्रदर्शन करने वाले लोगों को पुलिस ने ट्रैक से हटने के लिए माइक से अनाउंस कर हिदायत दी. पर ये कार्यकर्ता रेल ट्रैक पर ही डटे रहे. इस बीच दोनों तरफ से ट्रेन आते देख पुलिस भाप चुकी थी कि यहां मिनट भर की चूक चीखपुकार में तब्दील कर देगा.  ऐसे में पुलिस ने सूझबूझ से काम लिया और सभी को ट्रैक से अलग किया. हालांकि यहां प्रदर्शन कर रहे लोगों को यह एहसास हो गया था कि थोड़ी चूक खतरे में डाल चुकी थी. इस मामले में पुलिस ने जाप के 7 कार्यकर्ताओं को सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के मामले में गिरफ्तार किया और थाने ले गई.

ये भी पढ़ें: गजेंद्र शेखावत को फिर टक्कर देंगे CM गहलोत के बेटे वैभव, उपचुनाव में किस्मत आजमाने की तैयारी

बिहार में कभी किसान नहीं आए है सड़कों पर

किसान आंदोलन को लेकर अब तक कई बार शहर बंद, ट्रैक्टर पर प्रदर्शन, फिर हाईवे जाम और आज रेल चक्का जाम करने का ऐलान हुआ है. लेकिन बिहार में अब तक एक भी किसान  कभी भी कृषि सुधार कानून के खिलाफ सड़कों पर नज़र नहीं आए. बिहार में चक्काजाम हो या रेल रोको यहां विपक्ष में बैठी राजनीति पार्टियां ही सड़कों से लेकर रेल जाम में नज़र आई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.