• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • मुश्किल वक्त में भी राजधानी की सुरक्षा संभाल रही हैं पटना की ये 'लेडी कोरोना वारियर्स'

मुश्किल वक्त में भी राजधानी की सुरक्षा संभाल रही हैं पटना की ये 'लेडी कोरोना वारियर्स'

पटना के एक चौराहे पर ड्यूटी कर रहीं महिला पुलिसकर्मी

पटना के एक चौराहे पर ड्यूटी कर रहीं महिला पुलिसकर्मी

पटना की सड़कों पर कोरोना से जंग लड़ने के लिए कदम से कदम मिला रही ये महिला पुलिसकर्मी ड्यूटी प्रेशर के कारण अपने बच्चों से भी नहीं पा रही हैं.

  • Share this:
पटना. डर सबको लगता है, रास्ते सिर्फ दो ही होते हैं, भि‍ड़ो या भागो. ये भले ही कहने के लिए एक लाइन है, लेकिन आज के माहौल में कुछ योद्धा इसे चरित्रार्थ कर रहे हैं. ये है पटना (Patna) की महिला पुलिसकर्मी (Lady Police) जो किसी सुपरहीरो से कम नहीं हैं. कोरोना वायरस (Corona Virus) को हराने के लिए वो दिन रात डटी हैं. कोरोना वायरस से जंग में महिला पुलिसकर्मी भी जान जोखिम में डालकर अपना कर्तव्य निभा रही हैं. वो भी पुरुष सिपाहियों के साथ मिलकर दिन-रात की परवाह किए बिना थानों से लेकर चौक चौराहे तक मुस्तैदी से ड्यूटी कर रही है और इन दिनों अपनी ड्यूटी के आगे अपने छोटे बच्चों का भी मोह त्याग कर कोरोना के इस जंग में जुटी है और देश की सेवा कर रही हैं. ये महिला सिपाही यही संदेश दे रही हैं कि आप अपने घर में रहे तो कोरोना को हर हाल में पराजित कर देंगे.

लोगों को घरों में रखना बड़ी चुनौती

पटना के डाकबंगला चौराहे पर ड्यूटी पर तैनात रिंकू कहती हैं कि हम तो सड़कों पर खड़े रहने के लिए मजबूर हैं. घर परिवार और बच्चो से दूर हैं. अपनी ड्यूटी को लेकर रिंकू ने कहा कि इस समय लोगों को घरों में रखना बड़ी चुनौती है. इस समय घर की महिलाओं की पूरी जिम्मेदारी है कि वो बच्चों और घर के सदस्यों को बाहर न निकलने दें तभी वो कोरोना जैसी घातक बीमारी को हरा सकते हैं.

कोरोना से बचेंगे तभी ड्यूटी सफल होगी

लेडी कांस्टेबल सुषमा कहती हैं कि सुबह आठ बजे वो ड्यूटी आ जाती हैं और शाम तक रहती हैं. इस समय कोरोना की वजह से ड्यूटी अधिक लंबी भी करनी पड़ रही है. घर पर परिवार वालों से मिलना भी मुश्किल हो गया है लेकिन कोई बात नहीं समाज और देश को हमारी जरूरत है.

लोगों का सपोर्ट मिले तो जीत हमारी होगी

पटना के डाकबंगला चौराहे पर ही मुस्तैद महिला जवान अंकिता कहती हैं कि ज्यादातर लोग तो लॉकडाउन सपोर्ट कर रहे हैं लेकिन कम उम्र वाले ज्यादातर रूल्स का उल्लंघन भी करते हैं फिर स्थिति के मुताबिक ही उनसे निपटा जाता है. उन्होंने बताया कि हमारा भी परिवार है हम जब घर से निकलते हैं तो हर कोई कहता है कि अपना ख्याल रखना ऐसे में अगर हमें लोगों का सपोर्ट पूरी तरह से मिले तो वाकई यही हमारी असली सफलता होगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज