होम /न्यूज /बिहार /

बिहार: कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार फंसी नीतीश सरकार तो बचाव में उतरे लालू यादव, बोले- सब गलत बात है!

बिहार: कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार फंसी नीतीश सरकार तो बचाव में उतरे लालू यादव, बोले- सब गलत बात है!

कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार के मामले में लालू यादव ने सुशील मोदी पर निशाना साधा  (फाइल फोटो)

कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार के मामले में लालू यादव ने सुशील मोदी पर निशाना साधा (फाइल फोटो)

Bihar News: बिहार के महागठबंधन सरकार में कानून मंत्री बने कार्तिकेय कुमार सिंह लालू यादव की पार्टी आरजेडी के विधान पार्षद हैं. उनके खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज है. इसी कारण कोर्ट ने उनके खिलाफ वारंट जारी किया था. बाहुबली कार्तिकेय को सरेंडर कराने के बजाय उसी दिन कानून मंत्री पद की शपथ दिला दी गई.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार खुद कानून के कठघरे में खड़े हैं. इनके खिलाफ 16 अगस्त को कोर्ट ने सरेंडर करने का वारंट जारी किया था. इसी दिन इन्होंने बिहार में कानून मंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण किया था. साफ है कि जिस दिन कार्तिकेय सिंह को कोर्ट में सरेंडर करना था, उसी दिन उन्हें कानून मंत्री बना दिया गया. अब विरोधी भारतीय जनता पार्टी ने इसे मुद्दा बना लिया है. राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने नीतीश सरकार पर सवाल उठाते इन्हें बिहार कैबिनेट से तुरंत बर्खास्त करने की मांग की है. मगर राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद कार्तिकेय कुमार के बचाव में उतर आए हैं.

पटना रवाना होने से पहले दिल्ली एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए लालू यादव ने बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार सिंह के ऊपर लगे आरोपों पर कहा कि यह कोई मामला नहीं है; सब गलत बात है. सुशील मोदी के आरोपों पर कहा कि सुशील मोदी का क्या, झूठा है वो. इसके साथ ही लालू यादव ने केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार को हटाने की बात भी कही. उन्होंने कहा कि तानाशाह सरकार को हटाना है,
मोदी को हटाना है.

बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कार्तिकेय कुमार सिंह के मामले पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया था. उन्होंने कहा कि उन्हें इस मामले की कोई जानकारी नहीं है. बता दें कि एक दिन पहले ही कार्तिकेय सिंह ने मंत्री पद की शपथ ली, उस दिन उन्हें किडनैपिंग के एक मामले में कोर्ट में पेश होना था मगर वो नहीं हुए.

बता दें कि कार्तिकेय कुमार सिंह के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज है. इसी वजह से कोर्ट ने उनके खिलाफ वारंट जारी किया था. हालांकि, बाहुबली कार्तिकेय को सरेंडर कराने के बजाय उसी दिन कानून मंत्री पद की शपथ दिला दी गई. बता दें कि नीतीश-तेजस्वी सरकार में विधि मंत्री बने कार्तिकेय कुमार उर्फ मास्टर साहब बाहुबली अनंत सिंह के बेहद करीबी हैं.

बता दें कि कार्तिकेय कुमार सिंह लालू यादव की पार्टी आरजेडी के विधान पार्षद हैं. उन्होंने विधान परिषद चुनाव में जेडीयू के उम्मीदवार वाल्मीकि सिंह को हराया था. जिस वक्त नीतीश कुमार की पार्टी जदयू में वाल्मीकि सिंह को विधान परिषद का टिकट देने की बात चल रही थी तभी अनंत सिंह ने तेजस्वी यादव से कहा था कि कार्तिकेय सिंह की जीत की गारंटी वो खुद लेते हैं. लालू प्रसाद ने बतौर एमएलसी उम्मीदवार कार्तिकेय के नाम की घोषणा खुद की थी. जेल में रहते हुए भी अनंत ने कार्तिकेय को जितवा दिया.

Tags: Bihar politics, CM Nitish Kumar, Lalu Prasad Yadav

अगली ख़बर